Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2024 · 1 min read

“अमरूद की महिमा…”

स्रोत, विटामिन सी का अप्रतिम,
लौह तत्व भरपूर।
ख़ून बनाए, जोश बढ़ाए,
अपच, क़ब्ज़, काफ़ूर।।

भून, काट कर, नमक बुरक कर,
खाना भी मशहूर।
दूर भगाए, खाँसी-सर्दी,
पर ना तनिक ग़ुरूर।।

कान्ति त्वचा की बढ़ती जाए,
रुख़ से टपके नूर।
दादी भी इतरातीँ अब तो,
ज्यों जन्नत की हूर।।

इम्यूनिटी बढ़ जाए सभी की,
राजा या मजदूर।
उर उल्लास, उमँग,
नचाते,मन मदमस्त मयूर।।

नित्य निरन्तर, नयी ताज़गी,
तनिक न मन मजबूर।
बाबा खा कर दौड़ लगाते,
अब दिल्ली नहिँ दूर।।

ईश जगाते “आशा”
अद्भुत, क़ुदरत की करतूत।
वही जवानी, वापस लाने,
आया है अमरूद..!

##————##————##

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 47 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
गंगा ....
गंगा ....
sushil sarna
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
कुछ राज, राज रहने दो राज़दार।
डॉ० रोहित कौशिक
यदि आप नंगे है ,
यदि आप नंगे है ,
शेखर सिंह
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
दस रुपए की कीमत तुम क्या जानोगे
Shweta Soni
अधूरा इश्क़
अधूरा इश्क़
Dr. Mulla Adam Ali
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
फ़लसफ़े - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बेटी दिवस पर
बेटी दिवस पर
डॉ.सीमा अग्रवाल
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
!! जलता हुआ चिराग़ हूँ !!
Chunnu Lal Gupta
' चाह मेँ ही राह '
' चाह मेँ ही राह '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*शिवोहम्*
*शिवोहम्* "" ( *ॐ नमः शिवायः* )
सुनीलानंद महंत
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*प्रणय प्रभात*
दीप ऐसा जले
दीप ऐसा जले
Kumud Srivastava
आह और वाह
आह और वाह
ओनिका सेतिया 'अनु '
* मन बसेगा नहीं *
* मन बसेगा नहीं *
surenderpal vaidya
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
*अभिनंदन के लिए बुलाया, है तो जाना ही होगा (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
हो भविष्य में जो होना हो, डर की डर से क्यूं ही डरूं मैं।
Sanjay ' शून्य'
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
हर एक अनुभव की तर्ज पर कोई उतरे तो....
कवि दीपक बवेजा
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
नच ले,नच ले,नच ले, आजा तू भी नच ले
gurudeenverma198
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
संपूर्ण राममय हुआ देश मन हर्षित भाव विभोर हुआ।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
लेखन-शब्द कहां पहुंचे तो कहां ठहरें,
manjula chauhan
पिछले पन्ने भाग 2
पिछले पन्ने भाग 2
Paras Nath Jha
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ईमान
ईमान
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
फागुन होली
फागुन होली
Khaimsingh Saini
मनुस्मृति का, राज रहा,
मनुस्मृति का, राज रहा,
SPK Sachin Lodhi
"दो हजार के नोट की व्यथा"
Radhakishan R. Mundhra
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
“ फौजी और उसका किट ” ( संस्मरण-फौजी दर्शन )
DrLakshman Jha Parimal
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
वक़्त हमें लोगो की पहचान करा देता है
Dr. Upasana Pandey
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
1-कैसे विष मज़हब का फैला, मानवता का ह्रास हुआ
Ajay Kumar Vimal
Loading...