Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2016 · 1 min read

अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं

न देखिये यूं तिरछी निगाहों से मुझे,
अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं।

मदहोश था अब तक उनकी आराईश में यूं,
लगता था खुद से ही पराया हूँ मैं।

कुछ पल तो एहसास हो जमाने को मेरे होने का,
मुद्दत से ही निज स्वार्थ में भरमाया हूँ मैं।

ये ज़र ये ज़मीं ये सारे एहतमाम,
अदावत हैं यहीं के वर्ना कहां से लाया हूँ मैं।

नहीं बाकी मेरे पास खोने को कुछ भी,
सब कुछ खोकर ही तो तुमको पाया हूँ मैं।

1 Like · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
मां नर्मदा प्रकटोत्सव
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
"घर की नीम बहुत याद आती है"
Ekta chitrangini
सही पंथ पर चले जो
सही पंथ पर चले जो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
पेड़ के हिस्से की जमीन
पेड़ के हिस्से की जमीन
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
कलियुगी रिश्ते!
कलियुगी रिश्ते!
Saransh Singh 'Priyam'
💐प्रेम कौतुक-423💐
💐प्रेम कौतुक-423💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
ग़ज़ल-हलाहल से भरे हैं ज़ाम मेरे
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तन तो केवल एक है,
तन तो केवल एक है,
sushil sarna
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
बंदर मामा
बंदर मामा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिल्ली
बिल्ली
Manu Vashistha
जीने की ख़्वाहिशों में
जीने की ख़्वाहिशों में
Dr fauzia Naseem shad
#लघुकथा
#लघुकथा
*Author प्रणय प्रभात*
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
रिश्ते वक्त से पनपते है और संवाद से पकते है पर आज कल ना रिश्
पूर्वार्थ
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
तेरे मन मंदिर में जगह बनाऊं मै कैसे
Ram Krishan Rastogi
मुक्तक
मुक्तक
नूरफातिमा खातून नूरी
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh
* मुस्कुरा देना *
* मुस्कुरा देना *
surenderpal vaidya
बचपन याद बहुत आता है
बचपन याद बहुत आता है
VINOD CHAUHAN
जीवन की इतने युद्ध लड़े
जीवन की इतने युद्ध लड़े
ruby kumari
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
पढ़िए ! पुस्तक : कब तक मारे जाओगे पर चर्चित साहित्यकार श्री सूरजपाल चौहान जी के विचार।
Dr. Narendra Valmiki
अपना भी एक घर होता,
अपना भी एक घर होता,
Shweta Soni
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
Sapna Arora
*सकल विश्व में अपनी भाषा, हिंदी की जयकार हो (गीत)*
*सकल विश्व में अपनी भाषा, हिंदी की जयकार हो (गीत)*
Ravi Prakash
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
हो रहा अवध में इंतजार हे रघुनंदन कब आओगे।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
दंग रह गया मैं उनके हाव भाव देख कर
Amit Pathak
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
🌷सारे सवालों का जवाब मिलता है 🌷
Dr.Khedu Bharti
Loading...