Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं

न देखिये यूं तिरछी निगाहों से मुझे,
अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं।

मदहोश था अब तक उनकी आराईश में यूं,
लगता था खुद से ही पराया हूँ मैं।

कुछ पल तो एहसास हो जमाने को मेरे होने का,
मुद्दत से ही निज स्वार्थ में भरमाया हूँ मैं।

ये ज़र ये ज़मीं ये सारे एहतमाम,
अदावत हैं यहीं के वर्ना कहां से लाया हूँ मैं।

नहीं बाकी मेरे पास खोने को कुछ भी,
सब कुछ खोकर ही तो तुमको पाया हूँ मैं।

1 Like · 151 Views
You may also like:
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वरतत्वीय वरदान"पिता"
Archana Shukla "Abhidha"
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मजबूर ! मजदूर
शेख़ जाफ़र खान
कमर तोड़ता करधन
शेख़ जाफ़र खान
दर्द ख़ामोशियां
Dr fauzia Naseem shad
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
पिता
Keshi Gupta
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Satpallm1978 Chauhan
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
"बदलाव की बयार"
Ajit Kumar "Karn"
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
गर्म साँसें,जल रहा मन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कैसा हो सरपंच हमारा / (समसामयिक गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
Loading...