Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jul 2016 · 1 min read

अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं

न देखिये यूं तिरछी निगाहों से मुझे,
अभी-अभी तो होश में आया हूँ मैं।

मदहोश था अब तक उनकी आराईश में यूं,
लगता था खुद से ही पराया हूँ मैं।

कुछ पल तो एहसास हो जमाने को मेरे होने का,
मुद्दत से ही निज स्वार्थ में भरमाया हूँ मैं।

ये ज़र ये ज़मीं ये सारे एहतमाम,
अदावत हैं यहीं के वर्ना कहां से लाया हूँ मैं।

नहीं बाकी मेरे पास खोने को कुछ भी,
सब कुछ खोकर ही तो तुमको पाया हूँ मैं।

1 Like · 193 Views
You may also like:
हठीले हो बड़े निष्ठुर
लक्ष्मी सिंह
पापाचार बढ़ल बसुधा पर (भोजपुरी)
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
मैं बेटी हूँ।
Anamika Singh
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
अल्फाज़ ए ताज भाग -10
Taj Mohammad
गीतायाः पाठ:।
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
चापलूसी का ईनाम
Shekhar Chandra Mitra
बाल कविता: तितली चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
दिल्लगी
Harshvardhan "आवारा"
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
# नशा मुक्ति अभियान......
Chinta netam " मन "
#नाव
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विश्व जनसंख्या दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*श्रमिक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उनकी मुहब्बत खास है
Dr. Sunita Singh
दोस्ती का हर दिन ही
Dr fauzia Naseem shad
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
मैं फिर आऊँगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बयां न कर ,जाया ना कर
Seema 'Tu hai na'
#बाल-कविता- मेरा प्यारा मित्र
आर.एस. 'प्रीतम'
“ हमारा फेसबूक और हमरा टाइमलाइन ”
DrLakshman Jha Parimal
✍️किसान की आत्मकथा✍️
'अशांत' शेखर
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
वैदेही का महाप्रयाण
मनोज कर्ण
शिक्षा के दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कान्हा तोरी याद सताए
Shivkumar Bilagrami
The moon descended into the lake.
Manisha Manjari
हकीकत
पीयूष धामी
Loading...