Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Oct 2023 · 2 min read

अभिसप्त गधा

अभिशप्त गधा—–

सोमेश अति साधारण परिवार से सम्बंधित था माँ बाप कि बड़ी संतान दो छोटे भाई पिता और दोनों छोटे भाई राज मिस्त्री का काम करते थे जो सोमेश को बिल्कुल पसंद नही था ।

वह ग्रेजुएट था एव अति महत्वाकांक्षी भी दवा के होल सेल के दुकान पर कार्य करता लेकिन उसकी महत्वकांक्षा संतुष्ट नही थी।

सोमेश ने बीमा एजेंसी भी ले रखी थी और दुकान के सेल्समैन कि जिम्मेदारी से खाली होने के बाद वह बीमा की एजेंसी का काम करता पहले तो उसके पास मात्र सायकिल थी लेकिन बाद में उसने सेकेंड हैंड स्कूटर खरीद लिया।

कहते है कि लक्ष्मी सदा संयमित व्यक्ति कि सारथी होती है सोमेश कि आय बढ़ी तो उसके अनाप संताप खर्चे भी बढ़ने लगे लेकिन था वह मेहनती ।

अतः बहुत परेशानी नही होती ।शोमेश सुबह आठ बजे घर से निकलता और दस ग्यारह बजे रात को घर पहुंचता ।

एक दिन वह रात को दस बजे अपने किसी ग्राहक से मिल कर लौट ही रहा था सड़क सुन सान थी।

वैसे भी सुन सान सड़को पर ट्रैफिक नियमो का कोई पालन करता हो कम से कम भारत मे तो नही सम्भव है ।

भारत के अधिकांश शहरों में ट्रैफिक के सिग्नलों को आम जन भीड़ भाड़ में भी अनदेखा कर देते है यहाँ इसी बात में हर व्यक्ति अपने को होशियार समझता है कि वह भीड़ भाड़ में ट्रैफिक नियमो कि अनदेखी करके कैसे पहले निकल जाए चाहे ट्रैफिक पुलिस खड़ी हो या रेल क्रासिंग बन्द हो कोई फर्क नही पड़ता।

फर्क तब पड़ता है जब कोई अनहोनी घटना घट जाती है यही सोमेश के साथ हुआ रात के सुन सान सड़क पर वह ट्रैफिक नियमो कि अनदेखी करते विपरीत दिशा से निकल कर जल्दी से घर पहुँचना चाहत था तभी अचानक रास्ते मे खड़ा गधे से टकरा गया गधे ने बहुत तेज दुलत्ती मारी शोमेश स्कूटर समेत गिर पड़ा।

कहते है गधे की दुलत्ती बहुत खतरनाक होती है शोमेश के सर में बहुत गम्भीर छोटे आयी सड़क पर अचेत पड़ा शोमेश जीवन मृत्यु के बीच जंग लड़ रहा था और गधा वाही खड़ा एकटक शोमेश को निहार रहा था तभी उधर से गुजर रहे किसी अनजाने ने शोमेश को अचेत सड़क पर देखा वह नजदीक के पुलिस स्टेशन पर जाकर सूचित किया।

पुलिस ने औपचारिकता पूर्ण करने के बाद शोमेश को इलाज हेतु मेडिकल कालेज भेज दिया लाख उपाय के बाद भी शोमेश को नही बचाया जा सका शोमेश मरते मरते एक सबक दे गया सड़क व्यस्त हो या सुन सान ट्रैफिक नियमो का पालन करना ही चाहिये।।

नंदलाल मणि त्रिपाठी पीतांबर गोरखपुर उत्तर प्रदेश

Language: Hindi
141 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
View all
You may also like:
(20) सजर #
(20) सजर #
Kishore Nigam
एक फूल खिला आगंन में
एक फूल खिला आगंन में
shabina. Naaz
" लिहाज "
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ तो बाकी है !
कुछ तो बाकी है !
Akash Yadav
"दिल चाहता है"
Pushpraj Anant
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
♤ ⛳ मातृभाषा हिन्दी हो ⛳ ♤
♤ ⛳ मातृभाषा हिन्दी हो ⛳ ♤
Surya Barman
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
*चार दिन को ही मिली है, यह गली यह घर शहर (वैराग्य गीत)*
Ravi Prakash
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
वैराग्य का भी अपना हीं मजा है,
Manisha Manjari
“जगत जननी: नारी”
“जगत जननी: नारी”
Swara Kumari arya
उधार वो किसी का रखते नहीं,
उधार वो किसी का रखते नहीं,
Vishal babu (vishu)
2770. *पूर्णिका*
2770. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Jo mila  nahi  wo  bhi  theek  hai.., jo  hai  mil  gaya   w
Jo mila nahi wo bhi theek hai.., jo hai mil gaya w
Rekha Rajput
लहू जिगर से बहा फिर
लहू जिगर से बहा फिर
Shivkumar Bilagrami
रूह का भी निखार है
रूह का भी निखार है
Dr fauzia Naseem shad
कविता तुम क्या हो?
कविता तुम क्या हो?
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
शायरी
शायरी
श्याम सिंह बिष्ट
रास्ते  की  ठोकरों  को  मील   का  पत्थर     बनाता    चल
रास्ते की ठोकरों को मील का पत्थर बनाता चल
पूर्वार्थ
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
मन के झरोखों में छिपा के रखा है,
अमित मिश्र
दिव्य बोध।
दिव्य बोध।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
वो जो हूबहू मेरा अक्स है
Shweta Soni
हुईं वो ग़ैर
हुईं वो ग़ैर
Shekhar Chandra Mitra
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
चलता ही रहा
चलता ही रहा
हिमांशु Kulshrestha
अनुभव
अनुभव
डॉ०प्रदीप कुमार दीप
लग जाए वो
लग जाए वो "दवा"
*Author प्रणय प्रभात*
सुभाष चन्द्र बोस
सुभाष चन्द्र बोस
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
विश्व कप-2023 का सबसे लंबा छक्का किसने मारा?
World Cup-2023 Top story (विश्वकप-2023, भारत)
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
सुखों से दूर ही रहते, दुखों के मीत हैं आँसू।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Loading...