Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Dec 2022 · 1 min read

” अभिव्यक्ति “

डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
===================
बहुत मन करता है ,
नयी कविता लिखूँ !
नये अंदाज़ में ही ,
कुछ मैं बातें कहूँ !!
ग़ज़ल नहीं गाऊँगा ,
गीत नहीं सुनाऊँगा !
सीधी- साधी बातें ही ,
लोगों को बताऊँगा !!
पता है मुझे सब ,
मूक बधिर हो गए !
देखना भी छोड़कर ,
अंधे सब बन गए !!
अभिव्यक्ति नहीं ,
बंद सब हो गयीं !
ताले मुँह पर लगे ,
चाभियाँ खो भी गयीं !!
मीडिया भक्त बने हैं ,
सत्य को छोड़ दिया !
शासक से डरकर गए ,
मर्यादा को तोड़ दिया !!
अभिव्यक्ति से ही ,
प्रजातन्त्र चलती है !
जनकल्याण की बातें ,
सरकार तब सोचती है !!
बहुत मन करता है ,
नयी कविता लिखूँ !
नये अंदाज़ में ही ,
कुछ मैं बातें कहूँ !!
==================
डॉ लक्ष्मण झा “परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखंड
18.12.2022

Language: Hindi
112 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
वक्रतुंडा शुचि शुंदा सुहावना,
Neelam Sharma
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
जो संतुष्टि का दास बना, जीवन की संपूर्णता को पायेगा।
Manisha Manjari
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
लाइब्रेरी के कौने में, एक लड़का उदास बैठा हैं
The_dk_poetry
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
मै खामोश हूँ ,कमज़ोर नहीं , मेरे सब्र का इम्तेहान न ले ,
Neelofar Khan
तुम भी पत्थर
तुम भी पत्थर
shabina. Naaz
काम क्रोध मद लोभ के,
काम क्रोध मद लोभ के,
sushil sarna
भेज भी दो
भेज भी दो
हिमांशु Kulshrestha
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
अपने अच्छे कर्मों से अपने व्यक्तित्व को हम इतना निखार लें कि
Paras Nath Jha
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
बाल कविता: 2 चूहे मोटे मोटे (2 का पहाड़ा, शिक्षण गतिविधि)
Rajesh Kumar Arjun
नव प्रबुद्ध भारती
नव प्रबुद्ध भारती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
ग़ज़ल
ग़ज़ल
abhishek rajak
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
क्या मणिपुर बंगाल क्या, क्या ही राजस्थान ?
Arvind trivedi
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
*भोग कर सब स्वर्ग-सुख, आना धरा पर फिर पड़ा (गीत)*
Ravi Prakash
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
क्या जानते हो ----कुछ नही ❤️
Rohit yadav
मज़दूर दिवस
मज़दूर दिवस
Shekhar Chandra Mitra
2804. *पूर्णिका*
2804. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"पाठशाला"
Dr. Kishan tandon kranti
..
..
*प्रणय प्रभात*
हो गरीबी
हो गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
जहां में
जहां में
SHAMA PARVEEN
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
गुमराह जिंदगी में अब चाह है किसे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
No battles
No battles
Dhriti Mishra
नदी
नदी
Kumar Kalhans
Loading...