Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jan 2023 · 1 min read

अब साम्राज्य हमारा है युद्ध की है तैयारी ✍️✍️

” ईटो की नींव सीमेंट से भर गयी,
अब साम्राज्य के पिलर की बारी ,
सिंहासन अब इंतजार कर रही ,
आक्रमण की है तैयारी ।

रौंद दो उंन्हे अपने पैरों के तले ,
अब ना कोई धैर्य ना कोई एतबारी ,
साम्राज्य हमारा है अब बादशाह की बारी ।

कर दो तैयार कागज कलम को
अबकी इतिहास हमारी ,
रौंद दो उन्हें अपने हथियारों के आघातों से ,
बच ना पाए ये जालिम तुम्हारे बुद्धि के वारो से ।

अब ना कोई धैर्य ना कोई एतबारी ,
अब साम्राज्य हमारा है , युद्ध की है तैयारी ।”

Language: Hindi
193 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ढ़ांचा एक सा
ढ़ांचा एक सा
Pratibha Pandey
■समयोचित_संशोधन😊😊
■समयोचित_संशोधन😊😊
*प्रणय प्रभात*
2769. *पूर्णिका*
2769. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
राम के जैसा पावन हो, वो नाम एक भी नहीं सुना।
सत्य कुमार प्रेमी
कितना और बदलूं खुद को
कितना और बदलूं खुद को
इंजी. संजय श्रीवास्तव
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
*स्वप्न को साकार करे साहस वो विकराल हो*
पूर्वार्थ
*सबके मन में आस है, चलें अयोध्या धाम (कुंडलिया )*
*सबके मन में आस है, चलें अयोध्या धाम (कुंडलिया )*
Ravi Prakash
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
गर भिन्नता स्वीकार ना हो
AJAY AMITABH SUMAN
आभा पंखी से बढ़ी ,
आभा पंखी से बढ़ी ,
Rashmi Sanjay
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
सविनय अभिनंदन करता हूॅं हिंदुस्तानी बेटी का
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मजदूर
मजदूर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
छोड़ दिया ज़माने को जिस मय के वास्ते
छोड़ दिया ज़माने को जिस मय के वास्ते
sushil sarna
कृपया सावधान रहें !
कृपया सावधान रहें !
Anand Kumar
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
सफलता तीन चीजे मांगती है :
सफलता तीन चीजे मांगती है :
GOVIND UIKEY
छल फरेब
छल फरेब
surenderpal vaidya
गंगा- सेवा के दस दिन (सातवां दिन)
गंगा- सेवा के दस दिन (सातवां दिन)
Kaushal Kishor Bhatt
चमन यह अपना, वतन यह अपना
चमन यह अपना, वतन यह अपना
gurudeenverma198
ख्वाबों में मिलना
ख्वाबों में मिलना
Surinder blackpen
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU SHARMA
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
आलोचक-गुर्गा नेक्सस वंदना / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
बिन बोले सब कुछ बोलती हैं आँखें,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
उसे अंधेरे का खौफ है इतना कि चाँद को भी सूरज कह दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
** फितरत **
** फितरत **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
क़ाफ़िया तुकांत -आर
क़ाफ़िया तुकांत -आर
Yogmaya Sharma
"सबक"
Dr. Kishan tandon kranti
फूलों की है  टोकरी,
फूलों की है टोकरी,
Mahendra Narayan
पंचतत्व
पंचतत्व
लक्ष्मी सिंह
लोग समझते हैं
लोग समझते हैं
VINOD CHAUHAN
Loading...