Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2016 · 1 min read

*अब सरदी की हवा चली है*

अब सरदी की हवा चली है,
गरमी अपने गाँव चली है।

कहीं रजाई या फिर कम्बल,
और कहीं है टोपा सम्बल।
स्वेटर कोट सभी हैं लादे,
लड़ें ठंड से लिए इरादे।

सरदी आई, सरदी आई,
होती चर्चा गली-गली है।

कम्बल का कद बौना लगता,
हीटर एक खिलौना लगता।
कोहरे ने कोहराम मचाया,
पारा गिरकर नीचे आया।

शिमले से तो तोबा-तोबा,
अब दिल्ली की शाम भली है।

सूरज की भी हालत खस्ता,
गया बाँधकर बोरी-बस्ता।
पता नहीं, कब तक आएगा,
सबकी ठंड मिटा पाएगा।

सूरज आए ठंड भगाए,
सबको लगती धूप भली है।

गरमी हो तो, सरदी भाती,
सरदी हो तो, गरमी भाती।
और कभी पागल मनवा को,
मस्त हवा बरसाती भाती।

चाबी है ऊपर वाले पर,
अपनी मरजी कहाँ चली है।
…आनन्द विश्वास

Language: Hindi
263 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*हर शाम निहारूँ मै*
*हर शाम निहारूँ मै*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
कहां छुपाऊं तुम्हें
कहां छुपाऊं तुम्हें
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिन्दगी कागज़ की कश्ती।
जिन्दगी कागज़ की कश्ती।
Taj Mohammad
जीवन में ऐश्वर्य के,
जीवन में ऐश्वर्य के,
sushil sarna
जज्बे का तूफान
जज्बे का तूफान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
दशमेश गुरु गोविंद सिंह जी
Harminder Kaur
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़म का सागर
ग़म का सागर
Surinder blackpen
तय करो किस ओर हो तुम
तय करो किस ओर हो तुम
Shekhar Chandra Mitra
मेरा तितलियों से डरना
मेरा तितलियों से डरना
ruby kumari
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
बुरे फँसे टिकट माँगकर (हास्य-व्यंग्य)
Ravi Prakash
आत्म अवलोकन कविता
आत्म अवलोकन कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
मुझ पर तुम्हारे इश्क का साया नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
■ आज की बात
■ आज की बात
*Author प्रणय प्रभात*
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
सूना आज चमन...
सूना आज चमन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
बादल
बादल
Shankar suman
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
शेर
शेर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मुस्कुराते रहो
मुस्कुराते रहो
Basant Bhagawan Roy
Writing Challenge- जिम्मेदारी (Responsibility)
Writing Challenge- जिम्मेदारी (Responsibility)
Sahityapedia
ईमानदार  बनना
ईमानदार बनना
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
द्रौपदी ने भी रखा था ‘करवा चौथ’ का व्रत
कवि रमेशराज
सच तो यही हैं।
सच तो यही हैं।
Neeraj Agarwal
दिनांक:- २४/५/२०२३
दिनांक:- २४/५/२०२३
संजीव शुक्ल 'सचिन'
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
कृष्ण चतुर्थी भाद्रपद, है गणेशावतार
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
शव
शव
Sushil chauhan
Loading...