Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Mar 2024 · 1 min read

अब मेरी मजबूरी देखो

मैं भी साथ चला करता था, अब मेरी मजबूरी देखो
जिनके साथ रहा करता था, आज उन्हीं से दूरी देखो
मैं भी साथ चला करता था………….
जिनके काम किए हैं मैने, छोड़ के अपने काम सुनो
पड़ जाता है उनसे काम तो, उनके काम जरूरी देखो
मैं भी साथ चला करता था………….
मेरी मेहनत रंग ना लाई, या किस्मत का मारा हूं मैं
वो बन गए बड़े साहब और, अपनी जी हजूरी देखो
मैं भी साथ चला करता था………….
मेरी किस्मत साथ न दे तो, इसमें दोष कहाॅ॑ है मेरा
वे खाते हैं साही पनीर और, मेरी किचन अधूरी देखो
मैं भी साथ चला करता था…………
उनके रिश्ते दौलत वालों से, मैं गाॅ॑व में प्रीत बढ़ाता
जाहिल हो गए लोग गाॅ॑व के, उनकी ये दस्तूरी देखो
मैं भी साथ चला करता था…………
मिलने को भी जाओगे तो, सोचेंगे ये कैसे आ गया
‘V9द” हकीकत छुपी कहाॅ॑, चेहरे इनके बेनूरी देखो
मैं भी साथ चला करता था…………

1 Like · 53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from VINOD CHAUHAN
View all
You may also like:
तरुण
तरुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नारी सम्मान
नारी सम्मान
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
जब गेंद बोलती है, धरती हिलती है, मोहम्मद शमी का जादू, बयां क
Sahil Ahmad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अपनी समस्या का समाधान_
अपनी समस्या का समाधान_
Rajesh vyas
#पंचैती
#पंचैती
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
हरि का घर मेरा घर है
हरि का घर मेरा घर है
Vandna thakur
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
सागर बोला सुन ज़रा, मैं नदिया का पीर
Suryakant Dwivedi
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
खुद को मसखरा बनाया जिसने,
Satish Srijan
कई रंग देखे हैं, कई मंजर देखे हैं
कई रंग देखे हैं, कई मंजर देखे हैं
कवि दीपक बवेजा
5 हाइकु
5 हाइकु
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेख़ौफ़ क़लम
बेख़ौफ़ क़लम
Shekhar Chandra Mitra
अंत में पैसा केवल
अंत में पैसा केवल
Aarti sirsat
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
ये आंखें जब भी रोएंगी तुम्हारी याद आएगी।
Phool gufran
Tum likhte raho mai padhti rahu
Tum likhte raho mai padhti rahu
Sakshi Tripathi
"निगाहें"
Dr. Kishan tandon kranti
The flames of your love persist.
The flames of your love persist.
Manisha Manjari
*Relish the Years*
*Relish the Years*
Poonam Matia
रावण की हार .....
रावण की हार .....
Harminder Kaur
दुख वो नहीं होता,
दुख वो नहीं होता,
Vishal babu (vishu)
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
बाबा मुझे पढ़ने दो ना।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कई बात अभी बाकी है
कई बात अभी बाकी है
Aman Sinha
विश्व पटल से सदा सभी को एक दिवस
विश्व पटल से सदा सभी को एक दिवस
Ravi Prakash
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
सोचता हूँ रोज लिखूँ कुछ नया,
Dr. Man Mohan Krishna
■ आज का दोहा
■ आज का दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
ढोलकों की थाप पर फगुहा सुनाई दे रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
Loading...