Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

** अब मिटाओ दूरियां **

** गीतिका **
~~
अब मिटाओ दूरियां सारी, कदम बढ़ाओ।
मन से सब संशय के बादल, शीघ्र हटाओ।

जब किया है प्यार जीवन में, क्यों डरना है।
कुछ हासिल करने का मन में, भाव जगाओ।

कठिन कार्य को कर दिखलाना, हर हालत में।
खूब शक्ति का संचय कर लो, आगे आओ।

खिलते मुरझाते रहते हैं, फूल प्रकृति में।
छोड़ो हर उलझन को जल्दी, अब मुस्काओ।

ठोकर खाकर भी आगे ही, बढ़ते रहना।
तूफानों पर विजय प्राप्त कर, तुम दिखलाओ।

पथ में बिखरे शूल सभी खुद, हट जाते हैं।
साथ चले जो साथी उनका, साथ निभाओ।

राहत पहुँचाना अच्छा है, प्यास बुझेगी।
बरसो हर आंगन बन बादल, जब छा जाओ।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 116 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
प्यार हुआ कैसे और क्यूं
Parvat Singh Rajput
#नैमिषारण्य_यात्रा
#नैमिषारण्य_यात्रा
Ravi Prakash
कौन सुनेगा बात हमारी
कौन सुनेगा बात हमारी
Surinder blackpen
होली
होली
Manu Vashistha
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
आज फिर जिंदगी की किताब खोली
rajeev ranjan
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
छोड़कर जाने वाले क्या जाने,
शेखर सिंह
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
सागर की हिलोरे
सागर की हिलोरे
SATPAL CHAUHAN
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बादल
बादल
लक्ष्मी सिंह
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
अकेले मिलना कि भले नहीं मिलना।
डॉ० रोहित कौशिक
वसंत के दोहे।
वसंत के दोहे।
Anil Mishra Prahari
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
*मैं* प्यार के सरोवर मे पतवार हो गया।
Anil chobisa
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
भले ही भारतीय मानवता पार्टी हमने बनाया है और इसका संस्थापक स
Dr. Man Mohan Krishna
"महान गायक मच्छर"
Dr. Kishan tandon kranti
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
बुद्ध फिर मुस्कुराए / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
ना जाने कौन से मैं खाने की शराब थी
कवि दीपक बवेजा
फूलों की बात हमारे,
फूलों की बात हमारे,
Neeraj Agarwal
💐प्रेम कौतुक-524💐
💐प्रेम कौतुक-524💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
होली का रंग
होली का रंग
मनोज कर्ण
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
घिरी घटा घन साँवरी, हुई दिवस में रैन।
डॉ.सीमा अग्रवाल
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
इश्क दर्द से हो गई है, वफ़ा की कोशिश जारी है,
Pramila sultan
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
आने वाले सभी अभियान सफलता का इतिहास रचेँ
Er. Sanjay Shrivastava
धैर्य और साहस
धैर्य और साहस
ओंकार मिश्र
हक़ीक़त ने
हक़ीक़त ने
Dr fauzia Naseem shad
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
हो रही है ये इनायतें,फिर बावफा कौन है।
पूर्वार्थ
श्राद्ध पक्ष के दोहे
श्राद्ध पक्ष के दोहे
sushil sarna
"दुमका संस्मरण 3" परिवहन सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
मेहनत की कमाई
मेहनत की कमाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...