Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Nov 2023 · 1 min read

अब प्यार का मौसम न रहा

इस दुनिया में, ऐ जान मेरी
अब प्यार का मौसम न रहा
हो सके तो मुझको भूल जा
गुलज़ार का मौसम न रहा…
(१)
लोगों की बदहाली देख
कैसे फेरे आंख कोई
भीख रहम की मांगे जब
मुझसे बढ़ाकर हाथ कोई
शाम-सुबह महबूब के
दीदार का मौसम न रहा…
(२)
कहीं युद्ध तो कहीं दंगा है
सबके गले में फंदा है
मज़हब और सियासत का
खेल यह कितना गंदा है
ऐसी चीख-पुकार मची
झंकार का मौसम न रहा…
(३)
सारे लुटेरे और क़ातिल
बैठे आके ऊंचे ओहदों पर
देश-समाज की बागडोर
आजकल बस शोहदों पर
ज़ुल्मत का हुआ दौर शुरू
फनकार का मौसम न रहा…
(४)
दिल के टूटे हुए साज से
क्या छेड़े कोई ग़ज़ल
बर्बादी की दहलीज़ पर
आदम-हव्वा की नसल
हवाओं में है मर्सिया
शाहकार का मौसम न रहा…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#WrestlerProtests #Romantic
#दर्द #कवि #प्रेमी #जुल्म #हक #प्रेमी
#सियासत #चीख #revolution #जुल्म
#SakshiMalik #इंसाफ #lyricist #गीत
#bollywood #lyrics #poetry #song
#NoWar #हक #Revolution #Peace
#Love #RomanitiRebel #इश्क #क्रांति
#इंकलाब #बगावत #humanity #Buddha

Language: Hindi
Tag: गीत
2 Likes · 171 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
पश्चिम हावी हो गया,
पश्चिम हावी हो गया,
sushil sarna
"" मामेकं शरणं व्रज ""
सुनीलानंद महंत
!!  श्री गणेशाय् नम्ः  !!
!! श्री गणेशाय् नम्ः !!
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
आप इतना
आप इतना
Dr fauzia Naseem shad
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
घर में यदि हम शेर बन के रहते हैं तो बीबी दुर्गा बनकर रहेगी औ
Ranjeet kumar patre
"सावधान"
Dr. Kishan tandon kranti
हम तो यही बात कहेंगे
हम तो यही बात कहेंगे
gurudeenverma198
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
आयी प्यारी तीज है,झूलें मिलकर साथ
Dr Archana Gupta
ये गजल नही मेरा प्यार है
ये गजल नही मेरा प्यार है
Basant Bhagawan Roy
मोर
मोर
Manu Vashistha
आटा
आटा
संजय कुमार संजू
■ क़तआ (मुक्तक)
■ क़तआ (मुक्तक)
*Author प्रणय प्रभात*
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
I am Cinderella
I am Cinderella
Kavita Chouhan
समय का खेल
समय का खेल
Adha Deshwal
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
🌹ढ़ूढ़ती हूँ अक्सर🌹
Dr Shweta sood
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
अगीत कविता : मै क्या हूँ??
Sushila joshi
अनेक रंग जिंदगी के
अनेक रंग जिंदगी के
Surinder blackpen
*।।ॐ।।*
*।।ॐ।।*
Satyaveer vaishnav
मित्र
मित्र
लक्ष्मी सिंह
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
तुम मेरे हो
तुम मेरे हो
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
जय श्रीराम
जय श्रीराम
Indu Singh
देख रहा था पीछे मुड़कर
देख रहा था पीछे मुड़कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
*चलें साध कर यम-नियमों को, तुम्हें राम जी पाऍं (गीत)*
Ravi Prakash
गम इतने दिए जिंदगी ने
गम इतने दिए जिंदगी ने
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Loading...