Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Oct 2023 · 1 min read

अब गांव के घर भी बदल रहे है

घर के टूटे छज्जे , और गिरी हुई वो घर की दीवारें आज भी मुझे बुलाते हैं
नांघी थी जिस दिन मैंने घर की ढेहरी उस दिन से घर के खिड़की, दरजवाजे बेटा बेटा चिल्लाते है..

टूटे घर के इस हर कोने में मेरे बचपन की यांदे है ,
दादा दादी की कहानियां और
मेरी ना समझी की करामाते हैं,

बीता जिस आंगन में बचपन मेरा उस आंगन में आज भी बस मेरे हंसने रोने ,खिल खिलाने की यादें है,

टूटी छत से लटकी बांस की बल्लियों में आज भी अटकी मेरी कुछ धूल जमी किताबें है,

सिकहरे और पिट्टारे मे अब तो बस पक्षियों के घर नजर आते है
जहां कभी मेरे कारण मिठाई के डिब्बे छिपाए जाते थे….

घर के टूटे छज्जे और गिरी हुई वो घर की दीवारें आज भी मुझे बुलाते है……

कब लौटेगा तू इस आंगन में वापस कहकर मुझे चिढ़ाते है……

.

Language: Hindi
262 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी की पहेली
जिंदगी की पहेली
RAKESH RAKESH
कातिल
कातिल
Gurdeep Saggu
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
छोड़ऽ बिहार में शिक्षक बने के सपना।
जय लगन कुमार हैप्पी
#लघुकविता-
#लघुकविता-
*Author प्रणय प्रभात*
गम   तो    है
गम तो है
Anil Mishra Prahari
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
तू तो सब समझता है ऐ मेरे मौला
SHAMA PARVEEN
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
*पवन-पुत्र हनुमान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
2658.*पूर्णिका*
2658.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जीव कहे अविनाशी
जीव कहे अविनाशी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
लहर-लहर दीखे बम लहरी, बम लहरी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रिश्ता ख़ामोशियों का
रिश्ता ख़ामोशियों का
Dr fauzia Naseem shad
कुर्सी
कुर्सी
Bodhisatva kastooriya
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भिखारी का बैंक
भिखारी का बैंक
Punam Pande
श्रेष्ठता
श्रेष्ठता
Paras Nath Jha
जरूरत से ज्यादा
जरूरत से ज्यादा
Ragini Kumari
वक्त
वक्त
Jogendar singh
"कश्मकश"
Dr. Kishan tandon kranti
संसार का स्वरूप (2)
संसार का स्वरूप (2)
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
इमारत बड़ी थी वो
इमारत बड़ी थी वो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"मां के यादों की लहर"
Krishna Manshi
तस्वीर!
तस्वीर!
कविता झा ‘गीत’
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
गुमनामी ओढ़ लेती है वो लड़की
Satyaveer vaishnav
Subah ki hva suru hui,
Subah ki hva suru hui,
Stuti tiwari
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
चुलियाला छंद ( चूड़मणि छंद ) और विधाएँ
Subhash Singhai
" *लम्हों में सिमटी जिंदगी* ""
सुनीलानंद महंत
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
कहना तुम ख़ुद से कि तुमसे बेहतर यहां तुम्हें कोई नहीं जानता,
Rekha khichi
Loading...