Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Mar 2023 · 1 min read

अब किसे बरबाद करोगे gazal/ghazal By Vinit Singh Shayar

काँपते होठों की फ़रियाद याद करोगे
देख लेना तुम इक रोज हमें याद करोगे

जानते हैं तेरे छोड़ के जाने का सबब हम
इतना बता दो अब किसे बरबाद करोगे

याद आएंगे तुझको मेरे नगमे वो सारे
ग़ैरो के शेर पे जब जब इरशाद करोगे

जाने को जा रहे हो हमें छोड़ कर तो तुम
यादों से अपनी कब हमें आज़ाद करोगे

मेरे सामने जब मेरे ज़ख्मों पे ठहाका है
नम आँख किस तरह फिर मेरे बाद करोगे

~विनीत सिंह

Language: Hindi
1 Like · 165 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
हो गई तो हो गई ,बात होनी तो हो गई
गुप्तरत्न
हास्य कुंडलियाँ
हास्य कुंडलियाँ
Ravi Prakash
फ़साने
फ़साने
अखिलेश 'अखिल'
“बिरहनी की तड़प”
“बिरहनी की तड़प”
DrLakshman Jha Parimal
The enchanting whistle of the train.
The enchanting whistle of the train.
Manisha Manjari
* किधर वो गया है *
* किधर वो गया है *
surenderpal vaidya
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*प्रणय प्रभात*
मजदूर है हम
मजदूर है हम
Dinesh Kumar Gangwar
हे मां शारदे ज्ञान दे
हे मां शारदे ज्ञान दे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
प्रिंसिपल सर
प्रिंसिपल सर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेरी मुस्कान होती है
तेरी मुस्कान होती है
Namita Gupta
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
2788. *पूर्णिका*
2788. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
बह्र ## 2122 2122 2122 212 फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलातुन फ़ाइलुन काफिया ## चुप्पियाँ (इयाँ) रदीफ़ ## बिना रदीफ़
Neelam Sharma
यथार्थ
यथार्थ
Shyam Sundar Subramanian
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
" नई चढ़ाई चढ़ना है "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
"विश्ववन्दनीय"
Dr. Kishan tandon kranti
आज, नदी क्यों इतना उदास है.....?
आज, नदी क्यों इतना उदास है.....?
VEDANTA PATEL
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
गौर फरमाएं अर्ज किया है....!
पूर्वार्थ
हम बेजान हैं।
हम बेजान हैं।
Taj Mohammad
आप जब खुद को
आप जब खुद को
Dr fauzia Naseem shad
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
तेरे दिल की आवाज़ को हम धड़कनों में छुपा लेंगे।
Phool gufran
दुश्मन जमाना बेटी का
दुश्मन जमाना बेटी का
लक्ष्मी सिंह
*ईर्ष्या भरम *
*ईर्ष्या भरम *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
🙏 🌹गुरु चरणों की धूल🌹 🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी ना जाने कितने
जिंदगी ना जाने कितने
Ragini Kumari
Loading...