Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jan 2024 · 1 min read

अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी

अब किसी की याद पर है नुक़्ता चीनी
इस दिले – बेदाद पर है नुक़्ता चीनी

कौन सी तहज़ीब है ये नस्ले नव की
अपने ही अजदाद पर है नुक़्ता चीनी

जब मुक़द्दर में नहीं अपने रिहाई
किस लिये सैयाद पर है नुक़्ता चीनी

कह नहीं सकते किसी से हाले दिल हम
नाला -ओ – फ़रियाद पर है नुक़्ता चीनी

आप ने दी जान ‘आसी’ गुलसिताँ पर
आप की औलाद पर है नुक़्ता चीनी

आसी यूसुफपुरी

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 111 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किसी पर हक हो ना हो
किसी पर हक हो ना हो
shabina. Naaz
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
जीवन एक संगीत है | इसे जीने की धुन जितनी मधुर होगी , जिन्दगी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दोनो कुनबे भानुमती के
दोनो कुनबे भानुमती के
*Author प्रणय प्रभात*
!! होली के दिन !!
!! होली के दिन !!
Chunnu Lal Gupta
Really true nature and Cloud.
Really true nature and Cloud.
Neeraj Agarwal
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
हसीब सोज़... बस याद बाक़ी है
अरशद रसूल बदायूंनी
सबकी जात कुजात
सबकी जात कुजात
मानक लाल मनु
"भीमसार"
Dushyant Kumar
2827. *पूर्णिका*
2827. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शक्तिशालिनी
शक्तिशालिनी
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
अपनी क्षमता का पूर्ण प्रयोग नहीं कर पाना ही इस दुनिया में सब
Paras Nath Jha
जब सावन का मौसम आता
जब सावन का मौसम आता
लक्ष्मी सिंह
सब कुछ हो जब पाने को,
सब कुछ हो जब पाने को,
manjula chauhan
माँ की दुआ
माँ की दुआ
Anil chobisa
!..........!
!..........!
शेखर सिंह
आदित्य यान L1
आदित्य यान L1
कार्तिक नितिन शर्मा
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
दिसम्बर माह और यह कविता...😊
पूर्वार्थ
💐प्रेम कौतुक-316💐
💐प्रेम कौतुक-316💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मैं कवि हूं
मैं कवि हूं
Shyam Sundar Subramanian
అమ్మా దుర్గా
అమ్మా దుర్గా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
*सकल विश्व में अपनी भाषा, हिंदी की जयकार हो (गीत)*
*सकल विश्व में अपनी भाषा, हिंदी की जयकार हो (गीत)*
Ravi Prakash
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
सकारात्मक सोच
सकारात्मक सोच
Dr fauzia Naseem shad
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
अगर हौसला हो तो फिर कब ख्वाब अधूरा होता है,
Shweta Soni
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
"दास्तान"
Dr. Kishan tandon kranti
"गुमनाम जिन्दगी ”
Pushpraj Anant
श्रम साधक को विश्राम नहीं
श्रम साधक को विश्राम नहीं
संजय कुमार संजू
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
राजनीति में शुचिता के, अटल एक पैगाम थे।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...