Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Oct 2023 · 2 min read

अपराध बोध (लघुकथा)

“हैलो राजन! इधर सुनो!” कहते हुए चंदो ने दोस्तों से बात कर रहे राजन को इशारा किया। राजन थोड़ा ठिठका और चंदो के पीछे-पीछे चल दिया वह राजन को कॉलेज के उस एकांत कमरे में ले गयी जहाँ पहले से चंदो की अन्य पांच सहेलियां बैठी थीं। राजन वहाँ पहुँच अवाक सा खड़ा हो गया, क्योंकि ये वही सारी लड़कियां थी, जो राजन के अन्य छः मित्रों सहित इंटरमीडिएट दोनों वर्षों इंग्लिश की कोचिंग में साथ पढ़ी थीं।
“राजन तुम अनु की जानते हो” चंदो ने पूछा।
“हां.. हां.. हाँ क्या हुआ उसको” राजन ने आश्चर्य से पूछा।
“तुम्हारे और तुम्हारे कमीने दोस्तों की बजह से आज उसकी पढ़ाई छूट गयी और आत्मग्लानि से एकबार आत्महत्या करने का प्रयास भी किया है। तुम तो संस्कारी परिवार से हो तुम्हारी बहन हमारी सीनियर रहीं है। तुम ऐसे लोगों का साथ छोड़ क्यों नहीं देते।” चंदो ने राजन से कहा।
राजन ने अनभिज्ञता जताते हुए कहा “मैं और मेरे दोस्तों की बजह से….???”
तब चंदो ने बताया कि “कुछ दिन पूर्व हमारे गांव में शिवलिंग उत्तपन्न हुए थे तब तुम अपने दोस्तों के साथ उसे देखने आए थे और मेरी गली से गुजरे मैने छत से तुम्हें देख लिया था परन्तु तुम्हारे कमीन मित्रों की बजह से मैने घर नही बुलाया। थोड़ी आगे ही अनु का घर है जब तुम वहां से निकल रहे थे। तभी संयोग से अनु घर के बाहर एक भट्टी जल रही थी जिसमें अनु उपले डालने आयी थी जिस पर एक बड़े भगौने में आलू उबल रहे थे। क्योंकि उसके पिताजी का समौसे का व्यवसाय है। उसको भट्टी में उपले डालते देख तुम्हारे मित्र डैनी ने एक भद्दी टिप्पणी की थी।” कि “साली.. वहाँ तो तुम हीरोइन बनकर आती हो यहाँ तुम्हारा बाप समौसे बेचता है” इतना सुनते ही वह हीन भाव से घर के अंदर दौड़ गयी थी।
इसी से घटना से क्षुब्ध हो उसने आत्महत्या का प्रयास तक किया। तुम लोगों को किसने हक दिया है कि किसी के पिता या उसके व्यवसाय पर टिप्पणी करने का। और रही बात हीरोइन की, तो भगवान ने उसे रूप दिया है वह हम सब में सबसे सुंदर है। सस्ते कपड़े भी उसपर बहुत अच्छे लगते हैं।
आज अपनी कोचिंग सहपाठियों के सामने राजन नजर नही उठा पा रहा था। वह अपराध बोध से चंदो को निर्जीव सा खड़ा देख रहा था। वह अनु की पढ़ाई छूटने और उसके हर कदम के लिए स्वयं को जिम्मेदार मान रहा था क्योंकि अपराध के खिलाफ आवाज नहीं उठाना भी एक अपराध है क्या राजन इस अपराध के लिए स्वयं को कभी माफ कर पाएगा?
@पूर्णतः स्वरचित
-दुष्यंत “बाबा”
पुलिस लाईन, मुरादाबाद।
मो0-9758000057

3 Likes · 5 Comments · 174 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हवेली का दर्द
हवेली का दर्द
Atul "Krishn"
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख्वाब नाज़ुक हैं
ख्वाब नाज़ुक हैं
rkchaudhary2012
सत्य ही शिव
सत्य ही शिव
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
बाल कविता: मूंगफली
बाल कविता: मूंगफली
Rajesh Kumar Arjun
प्रियवर
प्रियवर
लक्ष्मी सिंह
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
दिल के टुकड़े
दिल के टुकड़े
Surinder blackpen
सावन
सावन
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
बाप के ब्रह्मभोज की पूड़ी
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
सत्य (कुंडलिया)
सत्य (कुंडलिया)
Ravi Prakash
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
गुजारे गए कुछ खुशी के पल,
Arun B Jain
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
रूबरू मिलने का मौका मिलता नही रोज ,
Anuj kumar
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
मनुष्य
मनुष्य
Sanjay ' शून्य'
■ गीत / पधारो मातारानी
■ गीत / पधारो मातारानी
*Author प्रणय प्रभात*
बंटते हिन्दू बंटता देश
बंटते हिन्दू बंटता देश
विजय कुमार अग्रवाल
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
क़भी क़भी इंसान अपने अतीत से बाहर आ जाता है
ruby kumari
2258.
2258.
Dr.Khedu Bharti
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
*सवर्ण (उच्च जाति)और शुद्र नीच (जाति)*
Rituraj shivem verma
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
लफ़्ज़ों में ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
प्रेम पर शब्दाडंबर लेखकों का / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चेतावनी हिमालय की
चेतावनी हिमालय की
Dr.Pratibha Prakash
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
💐अज्ञात के प्रति-41💐
💐अज्ञात के प्रति-41💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
मीठा शहद बनाने वाली मधुमक्खी भी डंक मार सकती है इसीलिए होशिय
Tarun Singh Pawar
Loading...