Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Mar 2017 · 1 min read

अपनों के दरमियां सियासत फ़िजूल है, ………

अपनों के दरमियां सियासत फ़िजूल है,
मक़सद न हो कोई, तो बग़ावत फ़िजूल है.
रोज़ा, नमाज़, हज, या हो सदक़ा -ए -ख़ैरात;
अपने ना खुश हों, तो सारी इबादत फ़िजूल है।।
(अवनीश कुमार )

Language: Hindi
574 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यादों की एक नई सहर. . . . .
यादों की एक नई सहर. . . . .
sushil sarna
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Ishq - e - Ludo with barcelona Girl
Rj Anand Prajapati
दिलों के खेल
दिलों के खेल
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"उपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
2709.*पूर्णिका*
2709.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
जागे हैं देर तक
जागे हैं देर तक
Sampada
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
जब हासिल हो जाए तो सब ख़ाक़ बराबर है
Vishal babu (vishu)
एक दिन
एक दिन
Ranjana Verma
एहसास दे मुझे
एहसास दे मुझे
Dr fauzia Naseem shad
-- दिखावटी लोग --
-- दिखावटी लोग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
बीमार समाज के मसीहा: डॉ अंबेडकर
Shekhar Chandra Mitra
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
वक्त को वक्त समझने में इतना वक्त ना लगा देना ,
ज्योति
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
*छुट्टी गर्मी की हुई, वर्षा का आनंद (कुंडलिया / बाल कविता)*
Ravi Prakash
■ साहित्यपीडिया से सवाल
■ साहित्यपीडिया से सवाल
*Author प्रणय प्रभात*
*** शुक्रगुजार हूँ ***
*** शुक्रगुजार हूँ ***
Chunnu Lal Gupta
"आत्म-मन्थन"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मिले तो हम उनसे पहली बार
मिले तो हम उनसे पहली बार
DrLakshman Jha Parimal
कुछ लिखूँ ....!!!
कुछ लिखूँ ....!!!
Kanchan Khanna
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
बेशक़ कमियाँ मुझमें निकाल
सिद्धार्थ गोरखपुरी
डरने लगता हूँ...
डरने लगता हूँ...
Aadarsh Dubey
जीवन की गाड़ी
जीवन की गाड़ी
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
प्रकृति ने अंँधेरी रात में चांँद की आगोश में अपने मन की सुंद
Neerja Sharma
मन्नत के धागे
मन्नत के धागे
Dr. Mulla Adam Ali
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
मेरा परिचय
मेरा परिचय
radha preeti
Please Help Me...
Please Help Me...
Srishty Bansal
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
संत पुरुष रहते सदा राग-द्वेष से दूर।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
"You are still here, despite it all. You are still fighting
पूर्वार्थ
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
कर क्षमा सब भूल मैं छूता चरण
Basant Bhagawan Roy
Loading...