Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Oct 2023 · 1 min read

अपने तो अपने होते हैं

अपने तो अपने होते हैं
यह शब्द बड़े स्नेह भरे होते हैं
फिर हम घबरा कर क्यों
गैरों की तरफ मुंख कर लेते हैं ।

हरमिंदर कौर अमरोहा

3 Likes · 1 Comment · 163 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ଆପଣ କିଏ??
ଆପଣ କିଏ??
Otteri Selvakumar
माँ मेरा मन
माँ मेरा मन
लक्ष्मी सिंह
बचपन
बचपन
Vedha Singh
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
नहीं हम हैं वैसे, जो कि तरसे तुमको
gurudeenverma198
2321.पूर्णिका
2321.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
■ जानवर बनने का शौक़ और अंधी होड़ जगाता सोशल मीडिया।
*Author प्रणय प्रभात*
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
तुम्हारी कहानी
तुम्हारी कहानी
PRATIK JANGID
मातृ भाषा हिन्दी
मातृ भाषा हिन्दी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
"मेरी जिम्मेदारी "
Pushpraj Anant
*पेंशन : आठ दोहे*
*पेंशन : आठ दोहे*
Ravi Prakash
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
जिसके लिए कसीदे गढ़ें
DrLakshman Jha Parimal
लम्हे
लम्हे
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
कल हमारे साथ जो थे
कल हमारे साथ जो थे
ruby kumari
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
यूनिवर्सिटी नहीं केवल वहां का माहौल बड़ा है।
Rj Anand Prajapati
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
💐अज्ञात के प्रति-87💐
💐अज्ञात के प्रति-87💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
अपने दिल से
अपने दिल से
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
काम दो इन्हें
काम दो इन्हें
Shekhar Chandra Mitra
अब मेरी मजबूरी देखो
अब मेरी मजबूरी देखो
VINOD CHAUHAN
खंड 7
खंड 7
Rambali Mishra
जुनून
जुनून
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तुम्हारी याद है और उम्र भर की शाम बाकी है,
तुम्हारी याद है और उम्र भर की शाम बाकी है,
Ankur Rawat
अंकों की भाषा
अंकों की भाषा
Dr. Kishan tandon kranti
करवाचौथ
करवाचौथ
Neeraj Agarwal
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
रिश्तों में पड़ी सिलवटें
Surinder blackpen
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
छत्तीसगढ़ रत्न (जीवनी पुस्तक)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
मै ज़िन्दगी के उस दौर से गुज़र रहा हूँ जहाँ मेरे हालात और मै
पूर्वार्थ
Loading...