Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Aug 6, 2022 · 1 min read

#अपने तो अपने होते हैं

#अपने तो अपने होते हैं

अपने तो अपने ही होते हैं,
कड़वे बोल, डांट फटकार लगाते हैं,
परायों में कहां वो बात होती है,
अपने तो ऐसे ही प्यार जताते हैं।।

सीमा टेलर, छिम़पीयान‌‌‌ लम्बोर, चुरू, राजस्थान

3 Likes · 2 Comments · 41 Views
You may also like:
नफरत
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
'देवरापल्ली प्रकाश राव'
Godambari Negi
✍️आव्हान✍️
'अशांत' शेखर
ग़ज़ल & दिल की किताब में -राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
ख़्वाब कोई
Dr fauzia Naseem shad
एक उलझा सवाल।
Taj Mohammad
पिता
Madhu Sethi
अब तो दर्शन दे दो गिरधर...
Dr.Alpa Amin
वक्त रहते मिलता हैं अपने हक्क का....
Dr.Alpa Amin
थक चुकी हूं मैं
Shriyansh Gupta
बचे जो अरमां तुम्हारे दिल में
Ram Krishan Rastogi
छोटी-छोटी चींटियांँ
Buddha Prakash
आज़ादी का परचम
Rekha Drolia
सागर ने लहरों से की है ये शिकायत।
Manisha Manjari
शहद वाला
शिवांश सिंघानिया
“ शिष्टता के धेने रहू ”
DrLakshman Jha Parimal
बात होती है सब नसीबों की।
सत्य कुमार प्रेमी
तिश्ना तिश्ना सा है आज नफ्स मेरा।
Taj Mohammad
प्रोफेसर ईश्वर शरण सिंहल का साहित्यिक योगदान (लेख)
Ravi Prakash
मेरे हाथो में सदा... तेरा हाथ हो..
Dr.Alpa Amin
चाहत
Lohit Tamta
जिन्दगी है की अब सम्हाली ही नहीं जाती है ।
Buddha Prakash
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
✍️"एक वोट एक मूल्य"✍️
'अशांत' शेखर
The flowing clouds
Buddha Prakash
लूटपातों की हयात
AMRESH KUMAR VERMA
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
अरदास
Vikas Sharma'Shivaaya'
🌺🌺प्रकृत्या: आदि:-मध्य:-अन्त: ईश्वरैव🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पुकार सुन लो
वीर कुमार जैन 'अकेला'
Loading...