Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Mar 2023 · 2 min read

“ अपने जन्म दिनों पर मौन प्रतिक्रिया ?..फिर अरण्यरोदन क्यों ?”

( संस्मरण )
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
=====================================
कुछ बातें पढ़ता ,देखता और सुनता हूँ तो एक अद्भुत तरंग धमनियों में प्रवाहित होने लगती है ! कभी -कभी तो रोंगटे खड़े हो जाते हैं ! हृदय की धड़कन बड़ जाती हैं ! लेखनी की पहली पंक्ति ही कहने लगती है कि लेखक किन विषयों को छू रहा है ! साहित्यिक ,संस्कृतिक ,मनोरंजन और ज्ञानवर्धक विवेचना के प्रभाव अमिट होते हैं ! कहानियाँ ,लेख ,विवेचना और संस्मरण को पढ़ना एक आनंदित क्षण माना जाता है ! जहाँ तक राजनीति विचारधारा का संबंध है यदि वो सटीक ,तर्कसंगत ,संतुलित ,मर्यादित और मृदुलता से अलंकृत लेख या विचार हो तो नहीं चाहने पर भी एक क्षण जी करता है कि पढ़ूँ ! यह तो मानना ही पड़ेगा कि राजनीति स्वयं ही विवादित है और इसकी विवाद की परिसीमा सभी दिशाओं में फैल जाती है जब इसमें कर्कश ,आलोचना ,अपशब्द बोलों और तिरस्कार की चासनी की परतें चढ़ जातीं हैं !
बहुत कम लोग इस तरह के होते हैं जो किन्हीं अन्य लोगों की कृतियों का रसास्वादन करते हैं ! सब अपनों में व्यस्त रहते हैं ! आप लाख कोशिश करके किन्हीं को कुछ पत्र स्वरूप लिखें ,जवाब शायद ही आयेगा आपको ! मैं कुछ दिनों से लोगों को उनके जन्म दिन पर उनके टाइम लाइन ,मैसेंजर और व्हाट्सप्प पर बधाई संदेश लिखकर पत्र लिखता हूँ ! पर उनकी आभार स्वरूप प्रतिक्रिया आज तक नगण्य रहीं !
कल की ही बात है ,गूगल ने कहा “ आपके दस फेसबूक मित्रों का आज जन्म दिन है ! आप उनके टाइम लाइन पर या मैसेंजर पर कुछ लिखें !”
मैंने अपने मित्रों के टाइम लाइन पर सबको लिख भेजा ,
“ I EXTEND MY BEST WISHES ON THE AUSPICIOUS OCCASION OF YOUR BIRTHDAY. MAY GOD BLESS YOU AND YOUR ENTIRE FAMILY FOR PROSPERITY, PROMOTION, AND SOUND HEALTH.
A FEW LINES ARE DEDICATED FROM MY COMPOSITION=====
“सूर्य की लालिमा से जीवन सदा देदीप्तमान रहे ,
खुशियाँ और आनंद के फूल सदा खिलते रहें !
शिकन लेशमात्र ललाट में आपके न आने पाये ,
आप यूँही इस धरा में आवाध गति से मुस्कुराएं !! “@लक्ष्मण
WITH BLESSINGS /LOVE
YOURS SINCERELY
DRLAKSHMAN JHA PARIMAL
SOUND HEALTH CLINIC
DOCTOR’S LANE
DUMKA
एक व्यक्ति ने भी आभार व्यक्त नहीं किया ना कोई दो शब्द ही मुझे लिखा ! यह बात भी नहीं थी कि वे सारे के सारे ऑफ लाइन थे ! सारे के सारे अपनी प्रक्रिया में लगे थे ! सामाजिक मर्यादा तो यह होती है कि हम अपने जन्म दिनों पर अपने बुजुर्गों को प्रणाम करते हैं और उनका आशीर्वाद लेते हैं !
जब अधिकाशतः लोग ना पढ़ते हैं ना देखते हैं और ना सुनते हैं तो फिर अरण्यरोदन क्यों ?…… फिर अरण्यरोदन क्यों ?
============================
डॉ लक्ष्मण झा ” परिमल ”
साउंड हेल्थ क्लिनिक
डॉक्टर’स लेन
दुमका
झारखंड
भारत
04.03.2023

Language: Hindi
159 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुम तो ठहरे परदेशी
तुम तो ठहरे परदेशी
विशाल शुक्ल
नूतन सद्आचार मिल गया
नूतन सद्आचार मिल गया
Pt. Brajesh Kumar Nayak
एक ऐसा मीत हो
एक ऐसा मीत हो
लक्ष्मी सिंह
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
मैं अपना गाँव छोड़कर शहर आया हूँ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
Surinder blackpen
‌‌‍ॠतुराज बसंत
‌‌‍ॠतुराज बसंत
Rahul Singh
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
Dr Manju Saini
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
जयंत (कौआ) के कथा।
जयंत (कौआ) के कथा।
Acharya Rama Nand Mandal
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
उल्फत अय्यार होता है कभी कबार
Vansh Agarwal
अज्ञात के प्रति-1
अज्ञात के प्रति-1
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आत्मा की आवाज
आत्मा की आवाज
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
युग बीत गया
युग बीत गया
Dr.Pratibha Prakash
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार करने वाले
प्यार करने वाले
Pratibha Pandey
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
जीवन में प्राथमिकताओं का तय किया जाना बेहद ज़रूरी है,अन्यथा
Shweta Soni
संयम
संयम
RAKESH RAKESH
बारिश का मौसम
बारिश का मौसम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वीर शहीदों की कुर्बानी...!!!!
वीर शहीदों की कुर्बानी...!!!!
Jyoti Khari
मन की पीड़ा क
मन की पीड़ा क
Neeraj Agarwal
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
बनारस के घाटों पर रंग है चढ़ा,
Sahil Ahmad
23/94.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/94.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"प्रीत-बावरी"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
FORGIVE US (Lamentations of an ardent lover of nature over the pitiable plight of “Saranda” Forest.)
Awadhesh Kumar Singh
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
*साथ तुम्हारा मिला प्रिये तो, रामायण का पाठ कर लिया (हिंदी ग
Ravi Prakash
नाम दोहराएंगे
नाम दोहराएंगे
Dr.Priya Soni Khare
छल ......
छल ......
sushil sarna
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
बट विपट पीपल की छांव 🐒🦒🐿️🦫
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
सोशल मीडिया पर दूसरे के लिए लड़ने वाले एक बार ज़रूर पढ़े…
Anand Kumar
सर्वे भवन्तु सुखिन:
सर्वे भवन्तु सुखिन:
Shekhar Chandra Mitra
Loading...