Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2023 · 1 min read

अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों

अपने को अपना बना कर रखना जितना कठिन है उतना ही सहज है दूसरों को केवल मुस्कुरा कर अपना बना कर रखना।

Paras Nath Jha

381 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
जीवन मार्ग आसान है...!!!!
Jyoti Khari
हर इश्क में रूह रोता है
हर इश्क में रूह रोता है
Pratibha Pandey
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
‌everytime I see you I get the adrenaline rush of romance an
Sukoon
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
दिली नज़्म कि कभी ताकत थी बहारें,
manjula chauhan
धरती मेरी स्वर्ग
धरती मेरी स्वर्ग
Sandeep Pande
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
"जीवन की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
माँ
माँ
Dinesh Kumar Gangwar
जब तक दुख मिलता रहे,तब तक जिंदा आप।
जब तक दुख मिलता रहे,तब तक जिंदा आप।
Manoj Mahato
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
*आते बारिश के मजे, गरम पकौड़ी संग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
हकीकत पर एक नजर
हकीकत पर एक नजर
पूनम झा 'प्रथमा'
कविता: सपना
कविता: सपना
Rajesh Kumar Arjun
भ्रम
भ्रम
Shyam Sundar Subramanian
"सुबह की किरणें "
Yogendra Chaturwedi
देह खड़ी है
देह खड़ी है
Dr. Sunita Singh
दिहाड़ी मजदूर
दिहाड़ी मजदूर
Satish Srijan
देखो भालू आया
देखो भालू आया
अनिल "आदर्श"
बर्दाश्त की हद
बर्दाश्त की हद
Shekhar Chandra Mitra
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
छोड़ने वाले तो एक क्षण में छोड़ जाते हैं।
लक्ष्मी सिंह
बेफिक्री की उम्र बचपन
बेफिक्री की उम्र बचपन
Dr Parveen Thakur
जन्म दायनी माँ
जन्म दायनी माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सूरज नहीं थकता है
सूरज नहीं थकता है
Ghanshyam Poddar
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
समस्त वंदनीय, अभिनन्दनीय मातृशक्ति को अखंड सौभाग्य के प्रतीक
*Author प्रणय प्रभात*
लिख / MUSAFIR BAITHA
लिख / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
ज़िन्दगी एक बार मिलती हैं, लिख दें अपने मन के अल्फाज़
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
निजी कॉलेज/ विश्वविद्यालय
Sanjay ' शून्य'
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
कोई किसी के लिए जरुरी नहीं होता मुर्शद ,
शेखर सिंह
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
केवल भाग्य के भरोसे रह कर कर्म छोड़ देना बुद्धिमानी नहीं है।
Paras Nath Jha
उस जमाने को बीते जमाने हुए
उस जमाने को बीते जमाने हुए
Gouri tiwari
3395⚘ *पूर्णिका* ⚘
3395⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...