Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता

अपने आप को ही सदा श्रेष्ठ व कर्मठ ना समझें , आपकी श्रेष्ठता तभी कम हो जाती है जब आप एक नन्हीं सी चींटी की भांति निरन्तर व अनथक प्रयास नहीं कर पाते ।।
चुनौतियाँ , कठिनाइयाँ , निरन्तर संघर्ष और असफलता अक्सर आपको डगमगा देती है ।
” चींटी हमसे अधिक श्रेष्ठ है ।”
सीमा वर्मा
🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

527 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Seema Verma
View all
You may also like:
हर एहसास
हर एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मुस्कुराहट
मुस्कुराहट
Santosh Shrivastava
भरोसा खुद पर
भरोसा खुद पर
Mukesh Kumar Sonkar
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
कार्यशैली और विचार अगर अनुशासित हो,तो लक्ष्य को उपलब्धि में
Paras Nath Jha
मित्र
मित्र
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
पलकों की
पलकों की
हिमांशु Kulshrestha
'रिश्ते'
'रिश्ते'
जगदीश शर्मा सहज
न मौत आती है ,न घुटता है दम
न मौत आती है ,न घुटता है दम
Shweta Soni
*हमारा संविधान*
*हमारा संविधान*
Dushyant Kumar
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
और भी शौक है लेकिन, इश्क तुम नहीं करो
gurudeenverma198
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
माँ कहती है खुश रहे तू हर पल
Harminder Kaur
देता है अच्छा सबक़,
देता है अच्छा सबक़,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
श्री राम अयोध्या आए है
श्री राम अयोध्या आए है
जगदीश लववंशी
नयी सुबह
नयी सुबह
Kanchan Khanna
हाजीपुर
हाजीपुर
Hajipur
रात भी तन्हाई भरी काटना ऐ मेरे दोस्त,
रात भी तन्हाई भरी काटना ऐ मेरे दोस्त,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
Rj Anand Prajapati
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
sushil sarna
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
उदास देख कर मुझको उदास रहने लगे।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
*चलते रहे जो थाम, मर्यादा-ध्वजा अविराम हैं (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अपना सफ़र है
अपना सफ़र है
Surinder blackpen
"रिश्ते की बुनियाद"
Dr. Kishan tandon kranti
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
अगर आपको अपने कार्यों में विरोध मिल रहा
Prof Neelam Sangwan
#आज_की_सार्थकता
#आज_की_सार्थकता
*प्रणय प्रभात*
इश्क चाँद पर जाया करता है
इश्क चाँद पर जाया करता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3558.💐 *पूर्णिका* 💐
3558.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
डॉ. जसवंतसिंह जनमेजय का प्रतिक्रिया पत्र लेखन कार्य अभूतपूर्व है
आर एस आघात
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
आगोश में रह कर भी पराया रहा
आगोश में रह कर भी पराया रहा
हरवंश हृदय
श्याम के ही भरोसे
श्याम के ही भरोसे
Neeraj Mishra " नीर "
Loading...