Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jul 2016 · 1 min read

अपने.अपने आईने

अपने.अपने आईने

शहीदी सींच से
आज़ाद धरा पर
जो पली थी
जनतंत्र फ़सल
उसमें
स्वार्थी किरचें
ख़रपतवार सी उगीं
और
जनने लगी आईने
अब
अपने – अपने चेहरे
अपने – अपने आईने ।

Language: Hindi
Tag: कविता
200 Views
You may also like:
चाँदनी रातें (विधाता छंद)
HindiPoems ByVivek
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
“ मेरा रंगमंच और मेरा अभिनय ”
DrLakshman Jha Parimal
सबका मालिक होता है।
Taj Mohammad
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
✍️मेरा साया छूकर गया✍️
'अशांत' शेखर
जीवन एक चुनौती है
Dr. Sunita Singh
फासले
Seema 'Tu hai na'
किसान पर दोहे
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मत छुपाओ हकीकत
gurudeenverma198
रावणदहन
Manisha Manjari
विश्वास
Harshvardhan "आवारा"
✍️गुमसुम सी रातें ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
गरीब की मौत
Alok Vaid Azad
साथी क्रिकेटरों के मध्य "हॉलीवुड" नाम से मशहूर शेन वॉर्न
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रलयंकारी कोरोना
Shriyansh Gupta
आत्महीनता एक अभिशाप
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
ह्रदय की व्यथा
Nitesh Kumar Srivastava
💐💐प्रेम की राह पर-12💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
तुम स्वर बन आये हो
Saraswati Bajpai
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
नहीं आता है
shabina. Naaz
कुछ मुक्तक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*सरदार पटेल का सपना अभी अधूरा है*
Ravi Prakash
औरत तेरी यही कहानी
विजय कुमार अग्रवाल
जवानी में तो तुमने भी गजब ढाया होगा
Ram Krishan Rastogi
"राम-नाम का तेज"
Prabhudayal Raniwal
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
पर्यावरण और मानव
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
द्रोणाचार्यों की साज़िश
Shekhar Chandra Mitra
Loading...