अपने अंदर बसे रावण को जलाते हैं

चलो इस बार कुछ ऐसा दशहरा मनाते हैं,
बस अपने अंदर बसे रावण को जलाते हैं।

अहंकार ही थी उसकी सबसे बड़ी बुराई,
चलो इस अहंकार को जलाकर आते हैं।

पुतले हर बार जला लिये हमने रावण के,
इस बार उसकी अच्छाइयों को अपनाते हैं।

उसके जैसी भक्ति करने का प्रण लेते हैं,
सच्चे मन से उस परमात्मा को ध्याते हैं।

अपनी बहन की रक्षा का वचन लेते हैं,
करके प्रयास कोख में मरने से बचाते हैं।

फैसले पर अडिग रहना सीखें रावण से,
खुद को रावण सा दृढ़ निश्चयी बनाते हैं।

अपनाएं हर एक अच्छाई उस रावण की,
आओ उस विद्वान के मिलकर गुण गाते हैं।

रावण के पुतले को नहीं बुराइयों को जलाएंगे,
सुलक्षणा आज हम मिलकर ये कसम ख़ाते हैं।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 314 Views
You may also like:
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
ग्रीष्म ऋतु भाग २
Vishnu Prasad 'panchotiya'
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
🌷🍀प्रेम की राह पर-49🍀🌷
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नींबू की चाह
Ram Krishan Rastogi
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
तुम जिंदगी जीते हो।
Taj Mohammad
मेरी राहे तेरी राहों से जुड़ी
Dr. Alpa H.
पिता
Manisha Manjari
"जीवन"
Archana Shukla "Abhidha"
इश्क के मारे है।
Taj Mohammad
वेदना
Archana Shukla "Abhidha"
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit Singh
**अशुद्ध अछूत - नारी **
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बद्दुआ बन गए है।
Taj Mohammad
प्रार्थना(कविता)
श्रीहर्ष आचार्य
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
मज़दूर की महत्ता
Dr. Alpa H.
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam मन
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
जलियांवाला बाग
Shriyansh Gupta
माँ की महिमाँ
Dr. Alpa H.
हसद
Alok Saxena
चेहरा तुम्हारा।
Taj Mohammad
मां
Anjana Jain
"एक नई सुबह आयेगी"
Ajit Kumar "Karn"
पिता का कंधा याद आता है।
Taj Mohammad
अहंकार
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...