Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2016 · 1 min read

अपने अंदर बसे रावण को जलाते हैं

चलो इस बार कुछ ऐसा दशहरा मनाते हैं,
बस अपने अंदर बसे रावण को जलाते हैं।

अहंकार ही थी उसकी सबसे बड़ी बुराई,
चलो इस अहंकार को जलाकर आते हैं।

पुतले हर बार जला लिये हमने रावण के,
इस बार उसकी अच्छाइयों को अपनाते हैं।

उसके जैसी भक्ति करने का प्रण लेते हैं,
सच्चे मन से उस परमात्मा को ध्याते हैं।

अपनी बहन की रक्षा का वचन लेते हैं,
करके प्रयास कोख में मरने से बचाते हैं।

फैसले पर अडिग रहना सीखें रावण से,
खुद को रावण सा दृढ़ निश्चयी बनाते हैं।

अपनाएं हर एक अच्छाई उस रावण की,
आओ उस विद्वान के मिलकर गुण गाते हैं।

रावण के पुतले को नहीं बुराइयों को जलाएंगे,
सुलक्षणा आज हम मिलकर ये कसम ख़ाते हैं।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 454 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ सुलक्षणा अहलावत
View all
You may also like:
एक हकीक़त
एक हकीक़त
Ray's Gupta
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/198. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*लस्सी में जो है मजा, लस्सी में जो बात (कुंडलिया)*
*लस्सी में जो है मजा, लस्सी में जो बात (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वर्षा के दिन आए
वर्षा के दिन आए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Rap song (3)
Rap song (3)
Nishant prakhar
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
प्रेरणा गीत (सूरज सा होना मुश्किल पर......)
अनिल कुमार निश्छल
💐प्रेम कौतुक-300💐
💐प्रेम कौतुक-300💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
श्रीराम
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*Author प्रणय प्रभात*
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
मिल जाते हैं राहों में वे अकसर ही आजकल।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
प्रेम के नाम पर मर मिटने वालों की बातें सुनकर हंसी आता है, स
पूर्वार्थ
संवेदनहीन
संवेदनहीन
अखिलेश 'अखिल'
सम्मान करे नारी
सम्मान करे नारी
Dr fauzia Naseem shad
आदर्श शिक्षक
आदर्श शिक्षक
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
पूर्ण विराग
पूर्ण विराग
लक्ष्मी सिंह
*तपन*
*तपन*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
जाने वाले बस कदमों के निशाँ छोड़ जाते हैं
VINOD CHAUHAN
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
जय माता दी 🙏
जय माता दी 🙏
Anil Mishra Prahari
हर पल
हर पल
Neelam Sharma
****** मन का मीत  ******
****** मन का मीत ******
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हिचकियां
हिचकियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
समय गुंगा नाही बस मौन हैं,
Sampada
* मुस्कुराने का समय *
* मुस्कुराने का समय *
surenderpal vaidya
हीरा बा
हीरा बा
मृत्युंजय कुमार
Loading...