Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2016 · 1 min read

अपने अंदर बसे रावण को जलाते हैं

चलो इस बार कुछ ऐसा दशहरा मनाते हैं,
बस अपने अंदर बसे रावण को जलाते हैं।

अहंकार ही थी उसकी सबसे बड़ी बुराई,
चलो इस अहंकार को जलाकर आते हैं।

पुतले हर बार जला लिये हमने रावण के,
इस बार उसकी अच्छाइयों को अपनाते हैं।

उसके जैसी भक्ति करने का प्रण लेते हैं,
सच्चे मन से उस परमात्मा को ध्याते हैं।

अपनी बहन की रक्षा का वचन लेते हैं,
करके प्रयास कोख में मरने से बचाते हैं।

फैसले पर अडिग रहना सीखें रावण से,
खुद को रावण सा दृढ़ निश्चयी बनाते हैं।

अपनाएं हर एक अच्छाई उस रावण की,
आओ उस विद्वान के मिलकर गुण गाते हैं।

रावण के पुतले को नहीं बुराइयों को जलाएंगे,
सुलक्षणा आज हम मिलकर ये कसम ख़ाते हैं।

©® डॉ सुलक्षणा अहलावत

1 Like · 381 Views
You may also like:
✍️✍️पुन्हा..!✍️✍️
'अशांत' शेखर
हमारी प्यारी मां
Shriyansh Gupta
#कविता//ऊँ नमः शिवाय!
आर.एस. 'प्रीतम'
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
'फौजी होना आसान नहीं होता"
Lohit Tamta
रवीश कुमार
Shekhar Chandra Mitra
हमारी नींदें
Dr fauzia Naseem shad
दुल्हन
Kavita Chouhan
शरद पूर्णिमा
अभिनव अदम्य
मुहब्बत फूल होती है मगर
shabina. Naaz
✍️वो अच्छे से समझता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
लगा हूँ...
Sandeep Albela
हम भी है आसमां।
Taj Mohammad
मेरी तडपन अब और न बढ़ाओ
Ram Krishan Rastogi
गर जा रहे तो जाकर इक बार देख लेना।
सत्य कुमार प्रेमी
आशियाना मेरा ढह गया
Seema 'Tu hai na'
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
हवा-बतास
आकाश महेशपुरी
रेत   का   घर 
Alok Saxena
खोपक पेरवा (लोकमैथिली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तुम्हे याद किये बिना सो जाऊ
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जुबान काट दी जाएगी - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
चुनौती
AMRESH KUMAR VERMA
वो राधा से फिर न मिला ।
शक्ति राव मणि
'एक सयानी बिटिया'
Godambari Negi
"काश हम"
Ankita
Loading...