Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

अपनी सोच का शब्द मत दो

किसी ने प्रेम लिखा
पर उसका दांपत्य जीवन
दुखों से भरा था
लोगों ने उसके लेखन से
उसका चरित्र तौल दिया ,

किसी ने दर्द लिखा
सच में उसको अपनों से
बहुत दर्द मिला था
लोगों ने उसके लेखन को
प्रश्नों से बींध दिया ,

किसी ने अध्यात्म लिखा
अपार चिंतन करके
ख़ुद को उससे आत्मसात किया
लोगों ने उसके लेखन को
सम्मान नहीं दिया ,

किसी ने दूसरे का चोरी करके लिखा
अपना कहकर उसको
सबके आगे पेश किया
लोगों ने चाटुकारिता में
वाह वाह किया ,

लोग आंखों में पट्टी बांध कर
हाथ में तराज़ू लेते हैं
सही ग़लत का फ़र्क देख नहीं पाते
बस अपने हिसाब से
फैसला सुनाते हैं ,

अरे ! उन शब्दों का बारीकी से मर्म समझो
फिर उनके लेखनी की
आलोचना या तारीफ दो
लेकिन उनकी लेखनी को
अपनी सोच का शब्द मत दो ।

स्वरचित एवं मौलिक
( ममता सिंह देवा )

81 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mamta Singh Devaa
View all
You may also like:
हमें अलग हो जाना चाहिए
हमें अलग हो जाना चाहिए
Shekhar Chandra Mitra
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
प्रेम का प्रदर्शन, प्रेम का अपमान है...!
Aarti sirsat
सदा बेड़ा होता गर्क
सदा बेड़ा होता गर्क
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चाय की चुस्की संग
चाय की चुस्की संग
Surinder blackpen
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
गुरु अमरदास के रुमाल का कमाल
कवि रमेशराज
🥰🥰🥰
🥰🥰🥰
शेखर सिंह
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
🌷🙏जय श्री राधे कृष्णा🙏🌷
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी का कागज...
जिंदगी का कागज...
Madhuri mahakash
"" *माँ की ममता* ""
सुनीलानंद महंत
Empty pocket
Empty pocket
Bidyadhar Mantry
ओ गौरैया,बाल गीत
ओ गौरैया,बाल गीत
Mohan Pandey
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
আগামীকালের স্ত্রী
আগামীকালের স্ত্রী
Otteri Selvakumar
समसामायिक दोहे
समसामायिक दोहे
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
जरूरत से ज़ियादा जरूरी नहीं हैं हम
सिद्धार्थ गोरखपुरी
दोहे ( मजदूर दिवस )
दोहे ( मजदूर दिवस )
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
अम्बर में अनगिन तारे हैं।
Anil Mishra Prahari
दुनियाभर में घट रही,
दुनियाभर में घट रही,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
हर एक भाषण में दलीलें लाखों होती है
कवि दीपक बवेजा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
मेरी देह बीमार मानस का गेह है / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
*कुछ कहा न जाए*
*कुछ कहा न जाए*
Shashi kala vyas
दोस्त ना रहा ...
दोस्त ना रहा ...
Abasaheb Sarjerao Mhaske
आजकल
आजकल
Munish Bhatia
25- 🌸-तलाश 🌸
25- 🌸-तलाश 🌸
Mahima shukla
*सहकारी युग हिंदी साप्ताहिक के प्रारंभिक पंद्रह वर्ष*
*सहकारी युग हिंदी साप्ताहिक के प्रारंभिक पंद्रह वर्ष*
Ravi Prakash
सपने..............
सपने..............
पूर्वार्थ
#साहित्यपीडिया
#साहित्यपीडिया
*Author प्रणय प्रभात*
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
मणिपुर की घटना ने शर्मसार कर दी सारी यादें
Vicky Purohit
"टी शर्ट"
Dr Meenu Poonia
Loading...