Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Jul 2023 · 1 min read

अपनी लेखनी नवापुरा के नाम ( कविता)

निर्मल है मेरा गाँव नवापुरा ध्वेचा
रहते हैं साथी संगी मिलजुल कर
जब कोई वार त्योहार हो
एकत्र हो जाते है गाँव के चौहटे
गर्व से कहता हूं जहां खुशियों का है संगम
वहाँ है मेरा गांव नवापुरा ध्वेचा
दो भागों में बंटा है क्षेत्र
पूर्व में उगमणा है तो पश्चिम में आतमणा है
लेकिन दोनों ही अलग नहीं है,
एक ही थैली के है चट्टे-बट्टे
कैसे करुँ नवापुरा गाँव का व्याख्यान
जितना कहता हूँ भर-भर के और आता है
यहां के लोग हैं सीधे सादे
रखते मतलब अपने काम से
एक दूसरे के आते हैं काम
इनका ह्रदय है विशाल
अजनबीयों का भी करते हैं सत्कार
दूर से आए हुए लोगों को भी दे देते हैं सहारा
सुख दुख में रहते हैं साथ
कैसे करूं नवापुरा के सज्जनों का व्याख्यान
जितना कहता हूं भर भर के और आता है
यहां की मिट्टी है उपजाऊपन
कण-कण में बसती हैं खुशबू
जीरा,इसबगोल,बाजरा,अरंडी, सरसों और गेहूं यहां की है मुख्य फसलें
कैसे करूं नवापुरा की फसलों का व्याख्यान
जितना कहता हूं भर भर के और आता है ।

कवि : प्रवीण सैन नवापुरा ध्वेचा
बागोड़ा (जालोर)

Language: Hindi
4 Likes · 455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
सुशील कुमार मोदी जी को विनम्र श्रद्धांजलि
विक्रम कुमार
2457.पूर्णिका
2457.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर बच्चा एक गीता है 🙏
हर बच्चा एक गीता है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नए साल की नई सुबह पर,
नए साल की नई सुबह पर,
Anamika Singh
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
क्या मुकद्दर बनाकर तूने ज़मीं पर उतारा है।
Phool gufran
"वक्त आ गया है"
Dr. Kishan tandon kranti
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
🌹मेरी इश्क सल्तनत 🌹
साहित्य गौरव
অরাজক সহিংসতা
অরাজক সহিংসতা
Otteri Selvakumar
जीवन से तम को दूर करो
जीवन से तम को दूर करो
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बैगन के तरकारी
बैगन के तरकारी
Ranjeet Kumar
*हीरे की कीमत लगी, सिर्फ जौहरी पास (कुंडलिया)*
*हीरे की कीमत लगी, सिर्फ जौहरी पास (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
दिल के कागज़ पर हमेशा ध्यान से लिखिए।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
" एकता "
DrLakshman Jha Parimal
यत्र तत्र सर्वत्र हो
यत्र तत्र सर्वत्र हो
Dr.Pratibha Prakash
* थके नयन हैं *
* थके नयन हैं *
surenderpal vaidya
बदले नहीं है आज भी लड़के
बदले नहीं है आज भी लड़के
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
चिंटू चला बाज़ार | बाल कविता
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
आकाश भेद पथ पर पहुँचा, आदित्य एल वन सूर्ययान।
जगदीश शर्मा सहज
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
■ भय का कारोबार...
■ भय का कारोबार...
*प्रणय प्रभात*
*अजब है उसकी माया*
*अजब है उसकी माया*
Poonam Matia
नारी की शक्ति
नारी की शक्ति
Anamika Tiwari 'annpurna '
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
राहतों की हो गयी है मुश्किलों से दोस्ती,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
कविता ही तो परंम सत्य से, रूबरू हमें कराती है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
चार लाइनर विधा मुक्तक
चार लाइनर विधा मुक्तक
Mahender Singh
गंगा घाट
गंगा घाट
Preeti Sharma Aseem
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
क्या कहें कितना प्यार करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
भोर के ओस!
भोर के ओस!
कविता झा ‘गीत’
Loading...