Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jul 2023 · 1 min read

अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े

अपनी बड़ाई जब स्वयं करनी पड़े तो ये अत्यन्त ही दु:खदायी है।

Paras Nath Jha

274 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Paras Nath Jha
View all
You may also like:
मैं तो महज इंसान हूँ
मैं तो महज इंसान हूँ
VINOD CHAUHAN
" प्रिये की प्रतीक्षा "
DrLakshman Jha Parimal
रोशन
रोशन
अंजनीत निज्जर
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Prakash Chandra
यह जनता है ,सब जानती है
यह जनता है ,सब जानती है
Bodhisatva kastooriya
"समय से बड़ा जादूगर दूसरा कोई नहीं,
Tarun Singh Pawar
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
हिंदी का आनंद लीजिए __
हिंदी का आनंद लीजिए __
Manu Vashistha
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
ज़ेहन पे जब लगाम होता है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
न चाहिए
न चाहिए
Divya Mishra
दो नयनों की रार का,
दो नयनों की रार का,
sushil sarna
*जिंदगी-भर फिर न यह, अनमोल पूँजी पाएँगे【 गीतिका】*
*जिंदगी-भर फिर न यह, अनमोल पूँजी पाएँगे【 गीतिका】*
Ravi Prakash
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
मुझे क्रिकेट के खेल में कोई दिलचस्पी नही है
ruby kumari
2332.पूर्णिका
2332.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
भाई घर की शान है, बहनों का अभिमान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
*मीठे बोल*
*मीठे बोल*
Poonam Matia
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
कविता कि प्रेम
कविता कि प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दीदार
दीदार
Vandna thakur
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
" मँगलमय नव-वर्ष-2024 "
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Tufan ki  pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Tufan ki pahle ki khamoshi ka andesha mujhe hone hi laga th
Sakshi Tripathi
वो इश्क को हंसी मे
वो इश्क को हंसी मे
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
🌹*लंगर प्रसाद*🌹
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
#व्यंग्य-
#व्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
💐प्रेम कौतुक-271💐
💐प्रेम कौतुक-271💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
काश कभी ऐसा हो पाता
काश कभी ऐसा हो पाता
Rajeev Dutta
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
जब तक प्रश्न को तुम ठीक से समझ नहीं पाओगे तब तक तुम्हारी बुद
Rj Anand Prajapati
किसी मे
किसी मे
Dr fauzia Naseem shad
Loading...