Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2023 · 1 min read

अपनी क़ीमत

अपनी क़ीमत कोई नहीं रक्खी।
तुम मेरा मोल क्या लगाओगे ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
14 Likes · 385 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
वो बेजुबान कितने काम आया
वो बेजुबान कितने काम आया
Deepika Kishori
2692.*पूर्णिका*
2692.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*टैगोर शिशु निकेतन *
*टैगोर शिशु निकेतन *
Ravi Prakash
#Secial_story
#Secial_story
*प्रणय प्रभात*
रात क्या है?
रात क्या है?
Astuti Kumari
मित्रता
मित्रता
जगदीश लववंशी
" मिट्टी के बर्तन "
Pushpraj Anant
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ख़ुद को हमारी नज़रों में तलाशते हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
नरसिंह अवतार विष्णु जी
नरसिंह अवतार विष्णु जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"क्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
डायरी भर गई
डायरी भर गई
Dr. Meenakshi Sharma
जश्न आजादी का ....!!!
जश्न आजादी का ....!!!
Kanchan Khanna
पानीपुरी (व्यंग्य)
पानीपुरी (व्यंग्य)
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
मां सीता की अग्नि परीक्षा ( महिला दिवस)
Rj Anand Prajapati
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
संग दीप के .......
संग दीप के .......
sushil sarna
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
कल शाम में बारिश हुई,थोड़ी ताप में कमी आई
Keshav kishor Kumar
लेकिन क्यों
लेकिन क्यों
Dinesh Kumar Gangwar
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
बोये बीज बबूल आम कहाँ से होय🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मनोरमा
मनोरमा
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
अधबीच
अधबीच
Dr. Mahesh Kumawat
कविता -नैराश्य और मैं
कविता -नैराश्य और मैं
Dr Tabassum Jahan
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
आप और हम जीवन के सच ..........एक प्रयास
Neeraj Agarwal
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
कोई टूटे तो उसे सजाना सीखो,कोई रूठे तो उसे मनाना सीखो,
Ranjeet kumar patre
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
चलो एक बार फिर से ख़ुशी के गीत गायें
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
Loading...