Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

अपनी कलम से…..!

अपनी कलम से कुछ नया, आयाम चाहता हूं
अब तक जो मैं लिख न सका, वो कलाम चाहता हूं
अपनी कलम से०…..
तू बन–बन कर हवा का झोंका, मेरे मन को बहका जाती
भीनी–भीनी सी कोई खुशबू, एहसासों को महका जाती
गीत लिखूं तेरे बोलों पर, एक पयाम चाहता हूं
अब तक जो मैं लिख न सका, वो कलाम चाहता हूं
अपनी कलम से०…..
जलता सूरज सा मैं लिख दूं, तपती धरती सा मैं लिख दूं
अपने जज़्बातों को लिख दूं, तेरा चांद सा चेहरा लिख दूं
तेरी झील सी आंखों का, इक सलाम चाहता हूं
अब तक जो मैं लिख न सका, वो कलाम चाहता हूं
अपनी कलम से०…..
तनहा–तनहा हैं दीवारें, दर हो जाते दूर कहीं
अपनी दहशत से घबरा कर, सर भी सरका और कहीं
बरखा,बिजली,आंधी, तूफाँ, पर लगाम चाहता हूं
अब तक जो मैं लिख न सका, वो कलाम चाहता हूं
अपनी कलम से०…..
जल जाते हैं सपने मेरे, दर्द बना जो राख बुझी
प्यार का दिया जल उठता है, रोशनी भागे और कहीं
तेरे झिलमिल से आँचल में, अब मुकाम चाहता हूं
अब एक जो मैं लिख न सका, वो कलाम चाहता हूं
अपनी कलम से०…..

–कुंवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह
*यह मेरी स्वरचित रचना है
*©सर्वाधिकार सुरक्षित

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
आबाद सर ज़मीं ये, आबाद ही रहेगी ।
Neelam Sharma
संसार का स्वरूप
संसार का स्वरूप
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
बितियाँ बात सुण लेना
बितियाँ बात सुण लेना
Anil chobisa
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
तेरी उल्फत के वो नज़ारे हमने भी बहुत देखें हैं,
manjula chauhan
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
दो दिन की जिंदगानी रे बन्दे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ख़बर ही नहीं
ख़बर ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*Author प्रणय प्रभात*
दोस्ती...
दोस्ती...
Srishty Bansal
राम विवाह कि मेहंदी
राम विवाह कि मेहंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
चलो आज कुछ बात करते है
चलो आज कुछ बात करते है
Rituraj shivem verma
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
Peace peace
Peace peace
Poonam Sharma
फितरत न कभी सीखा
फितरत न कभी सीखा
Satish Srijan
कौन यहाँ पर पीर है,
कौन यहाँ पर पीर है,
sushil sarna
3119.*पूर्णिका*
3119.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*गणेश जी (बाल कविता)*
*गणेश जी (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
वीर शिरोमणि महाराणा प्रताप
Ravi Yadav
विजयनगरम के महाराजकुमार
विजयनगरम के महाराजकुमार
Dr. Pradeep Kumar Sharma
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
सजदे में सर झुका तो
सजदे में सर झुका तो
shabina. Naaz
प्रतिध्वनि
प्रतिध्वनि
इंजी. संजय श्रीवास्तव
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
घृणा आंदोलन बन सकती है, तो प्रेम क्यों नहीं?
Dr MusafiR BaithA
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
संघर्ष ,संघर्ष, संघर्ष करना!
Buddha Prakash
सुपर हीरो
सुपर हीरो
Sidhartha Mishra
*प्यार का रिश्ता*
*प्यार का रिश्ता*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
ज़िंदगी का खेल है, सोचना समझना
पूर्वार्थ
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
सच नहीं है कुछ भी, मैने किया है
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
हिंदू-हिंदू भाई-भाई
Shekhar Chandra Mitra
"पत्र"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...