Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jul 2023 · 1 min read

अपनी-अपनी विवशता

अपनी-अपनी विवशता

“भैया टमाटर कैसे दिए ?”
“50 रुपए में एक किलो साहब जी।”
“भिन्डी कैसे ?”
“60 रुपए में एक किलो साहब जी।”
“आप तो बहुत महँगा बेच रहे हो भैया जी ? उधर सब्जी मंडी के गेट पर तो बोर्ड में ‘आज का भाव’ चार्ट में बड़े-बड़े अक्षरों में लिखा है कि टमाटर 40 और भिन्डी 50 में एक किलो। वहां साहब लोग भी बैठे हैं। कहीं आपकी शिकायत हो गई तो…”
“कुछ नहीं होगा भाई साहब। साठ-सत्तर हजार की पगार पाने वाले मंडी के वो साहब सुबह-सुबह ही थैला भर ताजी सब्जी ले जा चुके हैं। वो भी एकदम मुफ्त। अब उसकी भरपाई मैं गरीब आदमी कैसे करूँ ? आपको लेना है तो लीजिये वरना दूसरी जगह देखिए।”
“आप लोग इसका विरोध क्यों नहीं करते ?”
“कब करें साहब ? रोज कमाते हैं तो घर में चूल्हा जलता है।”
“अच्छा, ठीक है। ये रखो 40 रुपए और जल्दी से मेरे लिए आधा किलो टमाटर और एक पाँव भिन्डी निकाल दो।”
मुझे याद आया जल्दी से घर जाकर सब्जी छोड़नी है। फिर बच्चे के स्कूल में पेरेंट्स मीटिंग में भी जाना है। अभी जाते समय रास्ते में रामजी भाई की दूकान में पिताजी का चश्मा भी ठीक करने के लिए देना है। समय किसके पास है इन सब कामों के लिए। सबकी अपनी-अपनी व्यस्तताएं हैं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चले आना मेरे पास
चले आना मेरे पास
gurudeenverma198
रहब यदि  संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
रहब यदि संग मे हमर ,सफल हम शीघ्र भ जायब !
DrLakshman Jha Parimal
" ज़ख़्मीं पंख‌ "
Chunnu Lal Gupta
सुबह की चाय मिलाती हैं
सुबह की चाय मिलाती हैं
Neeraj Agarwal
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
Harminder Kaur
.........?
.........?
शेखर सिंह
"ख़ामोशी"
Pushpraj Anant
कब भोर हुई कब सांझ ढली
कब भोर हुई कब सांझ ढली
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मोबाइल
मोबाइल
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"अजीब दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
इंद्रधनुष सी जिंदगी
इंद्रधनुष सी जिंदगी
Dr Parveen Thakur
अस्तित्व की पहचान
अस्तित्व की पहचान
Kanchan Khanna
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
*अपने बाल खींच कर रोती (बाल कविता)*
Ravi Prakash
घाटे का सौदा
घाटे का सौदा
विनोद सिल्ला
बेटियों को मुस्कुराने दिया करो
बेटियों को मुस्कुराने दिया करो
Shweta Soni
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
जिंदगी सभी के लिए एक खुली रंगीन किताब है
Rituraj shivem verma
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कोई ऐसा बोलता है की दिल में उतर जाता है
कवि दीपक बवेजा
🙅आज का विज्ञापन🙅
🙅आज का विज्ञापन🙅
*प्रणय प्रभात*
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
कविता माँ काली का गद्यानुवाद
गुमनाम 'बाबा'
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
पेशवा बाजीराव बल्लाल भट्ट
Ajay Shekhavat
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
मुँहतोड़ जवाब मिलेगा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
तेरा मेरा रिस्ता बस इतना है की तुम l
Ranjeet kumar patre
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
गुरु से बडा ना कोय🙏
गुरु से बडा ना कोय🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरे सनम
मेरे सनम
Shiv yadav
ती सध्या काय करते
ती सध्या काय करते
Mandar Gangal
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कमियाॅं अपनों में नहीं
कमियाॅं अपनों में नहीं
Harminder Kaur
Loading...