Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 20, 2016 · 1 min read

अपना साथ दे दो

*****
“प्यासी है मन की धरा
नेह की बरसात दे दो।।
अंजुमन की रागिनी ने
प्रेम का है गीत गाया
खिल उठी मन की कली
कौन सा मौसम है आया
सिंदुरी हो जाए जीवन
कोई ऐसी बात कह दो
प्यासी है मन की धरा
नेह की बरसात दे दो।।
मीत मेरे हो तुम्ही तो
प्रीति मेरी है तुम्हारी
साथ में अब हर जनम हां
जिंदगी बीते हमारी
चांद तुम हो हम सितारे
कोई ऐसी रात दे दो
प्यासी है मन की धरा
नेह की बरसात दे दो।।।”

अंकिता

1 Like · 5 Comments · 456 Views
You may also like:
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
दो जून की रोटी
Ram Krishan Rastogi
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नदी सा प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अनामिका के विचार
Anamika Singh
राखी-बंँधवाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
Security Guard
Buddha Prakash
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
हो मन में लगन
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बाबू जी
Anoop Sonsi
बेचारी ये जनता
शेख़ जाफ़र खान
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
गांव शहर और हम ( कर्मण्य)
Shyam Pandey
श्रीराम
सुरेखा कादियान 'सृजना'
अधुरा सपना
Anamika Singh
जाने कैसा दिन लेकर यह आया है परिवर्तन
आकाश महेशपुरी
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फहराये तिरंगा ।
Buddha Prakash
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
सच्चे मित्र की पहचान
Ram Krishan Rastogi
Loading...