Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

अपना यह गणतन्त्र दिवस, ऐसे हम मनायें

(शेर)- महान है अपना गणतंत्र, इस पर गर्व करें हम।
नहीं हो इसका अपमान कभी, यह नहीं भूले हम।।
—————————————————————
अपना यह गणतंत्र दिवस, ऐसे हम मनाये।
मानकर इसको दीवाली, घर घर दीप जलाये।।
अपना यह गणतंत्र दिवस—————-।।

एक ऐसा स्वर्ण युग, गणतंत्र दिवस लाया है।
सभी को सम्मान- अधिकार, इसने दिलाया है।।
और अपने संविधान की, महिमा इस दिन सुनाये।
अपना यह गणतंत्र दिवस—————-।।

देश का शासन चलाने को, अपना संविधान बना।
शिक्षा और चिकित्सा का, सबके लिए प्रावधान बना।।
संविधान में वर्णित अधिकारों से, सबको अवगत कराये।
अपना यह गणतंत्र दिवस—————–।।

अमिट रहें धर्मनिरपेक्षता, सौहार्द- भाईचारा यहाँ।
सलामत रहे हमेशा, यह संविधान हमारा यहाँ।।
गणतंत्र की रक्षा के लिए, कौमी एकता हम बढ़ाये।
अपना यह गणतंत्र दिवस—————-।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

Language: Hindi
Tag: गीत
103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
खुले लोकतंत्र में पशु तंत्र ही सबसे बड़ा हथियार है
प्रेमदास वसु सुरेखा
विश्व जल दिवस
विश्व जल दिवस
Dr. Kishan tandon kranti
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
हिन्दू और तुर्क दोनों को, सीधे शब्दों में चेताया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
तुम्हें अपना कहने की तमन्ना थी दिल में...
Vishal babu (vishu)
जीवन
जीवन
sushil sarna
गुज़िश्ता साल -नज़्म
गुज़िश्ता साल -नज़्म
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
बड़े हौसले से है परवाज करता,
बड़े हौसले से है परवाज करता,
Satish Srijan
माँ काली साक्षात
माँ काली साक्षात
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेम 💌💌💕♥️
प्रेम 💌💌💕♥️
डॉ० रोहित कौशिक
सत्य की खोज
सत्य की खोज
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
🙅क्षणिका🙅
🙅क्षणिका🙅
*Author प्रणय प्रभात*
जो ना होना था
जो ना होना था
shabina. Naaz
तू ज़रा धीरे आना
तू ज़रा धीरे आना
मनोज कुमार
तुम शायद मेरे नहीं
तुम शायद मेरे नहीं
Rashmi Ranjan
*एक चूहा*
*एक चूहा*
Ghanshyam Poddar
सत्य बोलना,
सत्य बोलना,
Buddha Prakash
घर एक मंदिर🌷
घर एक मंदिर🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
ईमान धर्म बेच कर इंसान खा गया।
सत्य कुमार प्रेमी
दोहे तरुण के।
दोहे तरुण के।
Pankaj sharma Tarun
हल्ला बोल
हल्ला बोल
Shekhar Chandra Mitra
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
यदि तुमने किसी लड़की से कहीं ज्यादा अपने लक्ष्य से प्यार किय
Rj Anand Prajapati
3270.*पूर्णिका*
3270.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कोई शिकवा है हमसे
कोई शिकवा है हमसे
कवि दीपक बवेजा
☘☘🌸एक शेर 🌸☘☘
☘☘🌸एक शेर 🌸☘☘
Ravi Prakash
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
पंखों को मेरे उड़ान दे दो
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बस एक कदम दूर थे
बस एक कदम दूर थे
'अशांत' शेखर
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
कैसे रखें हम कदम,आपकी महफ़िल में
gurudeenverma198
Loading...