Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 May 2024 · 1 min read

अन-मने सूखे झाड़ से दिन.

अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
60…
२१२२ १२१२ २
अन-मने सूखे झाड़ से दिन.
तुम सजा लो कबाड़ से दिन
#
है पुरानी कमीज अपनी
सर्द काँपे है हाड़ से दिन
#
जाने कैसे तो काटेंगे हम
अब जुदा हो, पहाड़ से दिन
#
छाँव आती नही, जरा भी
हैं अजूबे, ये ताड़ से दिन
#
लूट गजनी की हो गई है
बस्ती भारी उजाड़ से दिन
#
सुशील यादव
न्यू आदर्श नगर दुर्ग (छ.ग.)
susyadav7@gmail.com
7000226712
3.4.24

27 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
मैं ज्योति हूँ निरन्तर जलती रहूँगी...!!!!
Jyoti Khari
तू सहारा बन
तू सहारा बन
Bodhisatva kastooriya
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
*कागज़ कश्ती और बारिश का पानी*
sudhir kumar
" तेरा एहसान "
Dr Meenu Poonia
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
कर्म परायण लोग कर्म भूल गए हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
नौकरी
नौकरी
Rajendra Kushwaha
कैसे हमसे प्यार करोगे
कैसे हमसे प्यार करोगे
KAVI BHOLE PRASAD NEMA CHANCHAL
अन्नदाता
अन्नदाता
Akash Yadav
तुम्हें प्यार करते हैं
तुम्हें प्यार करते हैं
Mukesh Kumar Sonkar
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
Shweta Soni
में बेरोजगारी पर स्वार
में बेरोजगारी पर स्वार
भरत कुमार सोलंकी
*जन्मभूमि में प्राण-प्रतिष्ठित, प्रभु की जय-जयकार है (गीत)*
*जन्मभूमि में प्राण-प्रतिष्ठित, प्रभु की जय-जयकार है (गीत)*
Ravi Prakash
ग़ज़ल(चलो हम करें फिर मुहब्ब्त की बातें)
ग़ज़ल(चलो हम करें फिर मुहब्ब्त की बातें)
डॉक्टर रागिनी
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बस गया भूतों का डेरा
बस गया भूतों का डेरा
Buddha Prakash
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
हमें प्यार ऐसे कभी तुम जताना
Dr fauzia Naseem shad
मेरी गुड़िया
मेरी गुड़िया
Kanchan Khanna
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
यात्राएं करो और किसी को मत बताओ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
शब्द✍️ नहीं हैं अनकहे😷
डॉ० रोहित कौशिक
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
उतर गया प्रज्ञान चांद पर, भारत का मान बढ़ाया
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
अंततः कब तक ?
अंततः कब तक ?
Dr. Upasana Pandey
अल्फ़ाजी
अल्फ़ाजी
Mahender Singh
जीवन रूपी बाग में ,सत्कर्मों के बीज।
जीवन रूपी बाग में ,सत्कर्मों के बीज।
Anamika Tiwari 'annpurna '
आज और कल
आज और कल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
" अंधेरी रातें "
Yogendra Chaturwedi
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
जय श्रीकृष्ण । ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ।
Raju Gajbhiye
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"चलना"
Dr. Kishan tandon kranti
शेर
शेर
Monika Verma
Loading...