Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 13, 2016 · 1 min read

अन्य

भोर का सुहाना चित्र

रक्तिम आभा ले उगता है, प्राची में दिनकर,
उषा किरण की डोली बैठी, धूप नवल चढ़कर।
आशाओं की डोरी थामे, भोर उतरती है,
सृष्टि रचयिता धरणी हँसती, फूलों पर थमकर।

दिनकर सौंपे विकल धरा को, सतरंगी चूनर,
दूर क्षितिज में सेज नगों की , लेता बाँहों भर।
पंछी कलरव करते मधुरिम, मंगल गान करें,
प्रखर दीप्त, आलोकित, अरुणिम, दृश्य बड़ा मनहर।

वीर बहूटी धरा प्रणय की , पाती पढ़ पढ़ कर,
दान बाँटती मंजुलता का, दसों दिशा खुलकर।
प्रकृति नटी का रूप सलोना, ईश्वर की लीला,
द्रुमदल, कंज, भ्रमर हँस कहते,”जीवन है सुंदर”।।

दीपशिखा सागर-

220 Views
You may also like:
खा लो पी लो सब यहीं रह जायेगा।
सत्य कुमार प्रेमी
उसका नाम लिखकर।
Taj Mohammad
एक पत्र बच्चों के लिए
Manu Vashistha
तुम्हीं हो पापा
Krishan Singh
दिल की ख्वाहिशें।
Taj Mohammad
बुरा तो ना मानोगी।
Taj Mohammad
✍️माटी का है मनुष्य✍️
"अशांत" शेखर
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
चम्पा पुष्प से भ्रमर क्यों दूर रहता है
Subhash Singhai
अंकपत्र सा जीवन
सूर्यकांत द्विवेदी
जिन्दगी है हमसे रूठी।
Taj Mohammad
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math
मेरी हस्ती
Anamika Singh
सेमर
विकास वशिष्ठ *विक्की
मेरे दिल के करीब,आओगे कब तुम ?
Ram Krishan Rastogi
हमारे पापा
Anamika Singh
He is " Lord " of every things
Ram Ishwar Bharati
सेमल के वृक्ष...!
मनोज कर्ण
"दोस्त"
Lohit Tamta
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Only for L
श्याम सिंह बिष्ट
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
आप से हैं गुज़ारिश हमारी.... 
Dr. Alpa H. Amin
✍️प्रकृति के नियम✍️
"अशांत" शेखर
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
Loading...