Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Dec 2022 · 1 min read

अन्न देवता

अन्न देवता
तू है सच्चा एक –
अनोखा,
बिना छत्र का –
मटमैला,
मटमैला,
राजा इस धरती का।
हो कर –
मद में चूर,
नशे में झूल,
झमेले में माया के।
भूल चुके हैं –
तेरी मेहनत।
माटी से सोना करने की
तेरी ज़हमत।
नहीं रूकेगा –
आयेगा –
ऐसा परिवर्तन।
तेरे हंसते हरे खेत –
इस मानवता के –
तीरथ हांगे।
म|टी कहे पुकार वेफ
धरती माता,
तेरे हल की –
तेज धार से –
आलोकित हो,
साथ तुम्हारे –
अपने को ले,
नये रूप में –
नये साज़ में,
संवर सकेगी।
महक उठेगी।।

Language: Hindi
3 Likes · 253 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Girish Chandra Agarwal
View all
You may also like:
*पार्क (बाल कविता)*
*पार्क (बाल कविता)*
Ravi Prakash
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
फ़ासले
फ़ासले
Dr fauzia Naseem shad
आओ बुद्ध की ओर चलें
आओ बुद्ध की ओर चलें
Shekhar Chandra Mitra
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक्तक
मुक्तक
दुष्यन्त 'बाबा'
3112.*पूर्णिका*
3112.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"भलाई"
Dr. Kishan tandon kranti
शिव स्तुति
शिव स्तुति
मनोज कर्ण
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
राजनीति में ना प्रखर,आते यह बलवान ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
भुक्त - भोगी
भुक्त - भोगी
Ramswaroop Dinkar
ना देखा कोई मुहूर्त,
ना देखा कोई मुहूर्त,
आचार्य वृन्दान्त
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
खुद का वजूद मिटाना पड़ता है
कवि दीपक बवेजा
मेनाद
मेनाद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
हम मोहब्बत की निशानियाँ छोड़ जाएंगे
Dr Tabassum Jahan
तेरी याद
तेरी याद
SURYA PRAKASH SHARMA
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
भय के द्वारा ही सदा, शोषण सबका होय
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
💐प्रेम कौतुक-306💐
💐प्रेम कौतुक-306💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
कुप्रथाएं.......एक सच
कुप्रथाएं.......एक सच
Neeraj Agarwal
कर्म ही है श्रेष्ठ
कर्म ही है श्रेष्ठ
Sandeep Pande
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
मर्चा धान को मिला जीआई टैग
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
बढ़े चलो तुम हिम्मत करके, मत देना तुम पथ को छोड़ l
Shyamsingh Lodhi (Tejpuriya)
पितृ दिवस पर....
पितृ दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*वो जो दिल के पास है*
*वो जो दिल के पास है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
जलाने दो चराग हमे अंधेरे से अब डर लगता है
Vishal babu (vishu)
Loading...