Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Feb 2024 · 1 min read

अन्नदाता

कोई होटल की बिखरी ओस में भींग रहा है
कोई खेतों की गर्मी से खुद को सींच रहा है

कोई पकवानों के जैसा फल फूल रहा है
कोई पेड़ों की शाखों पर झूल रहा है

न मिलता किसी को पेट भर खाने को है
किसी का देखकर खाने को मन ऊब रहा है

कोई खुद में ही लाचारी को महसूस कर रहा है
कोई जेबों से लापरवाही को बस फूंक रहा है

कोई भरता है मोटर से जिंदगी की उड़ानों को
कोई पग पग पे अपनो के लिए बस लड़ रहा है

कोई करता है गैरों से गिला अपनी नुमाइश का
कोई बिखरे हुए सपनो को लेकर दम तोड़ रहा है ।

!! आकाशवाणी !!

Language: Hindi
43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" तार हूं मैं "
Dr Meenu Poonia
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
ऐसा नही था कि हम प्यारे नही थे
Dr Manju Saini
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
फिर वसंत आया फिर वसंत आया
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
ବାତ୍ୟା ସ୍ଥିତି
Otteri Selvakumar
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
संतुलन
संतुलन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
Who is whose best friend
Who is whose best friend
Ankita Patel
मैं फक्र से कहती हू
मैं फक्र से कहती हू
Naushaba Suriya
****प्राणप्रिया****
****प्राणप्रिया****
Awadhesh Kumar Singh
Wakt ke girewan ko khich kar
Wakt ke girewan ko khich kar
Sakshi Tripathi
#नैमिषारण्य_यात्रा
#नैमिषारण्य_यात्रा
Ravi Prakash
2311.
2311.
Dr.Khedu Bharti
कहानी
कहानी
कवि रमेशराज
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
बेचारा जमीर ( रूह की मौत )
ओनिका सेतिया 'अनु '
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
जहाँ सूर्य की किरण हो वहीं प्रकाश होता है,
Ranjeet kumar patre
साँझ ढले ही आ बसा, पलकों में अज्ञात।
साँझ ढले ही आ बसा, पलकों में अज्ञात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"चालाकी"
Ekta chitrangini
कविता
कविता
Alka Gupta
देश की हिन्दी
देश की हिन्दी
surenderpal vaidya
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
खोदकर इक शहर देखो लाश जंगल की मिलेगी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मेरी सोच (गजल )
मेरी सोच (गजल )
umesh mehra
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
चारू कात देख दुनियां कें,सोचि रहल छी ठाड़ भेल !
DrLakshman Jha Parimal
"मन"
Dr. Kishan tandon kranti
#सत्यकथा
#सत्यकथा
*Author प्रणय प्रभात*
पलक-पाँवड़े
पलक-पाँवड़े
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाकी सब कुछ चंगा बा
बाकी सब कुछ चंगा बा
Shekhar Chandra Mitra
उजियार
उजियार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
अब खयाल कहाँ के खयाल किसका है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
Loading...