Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2024 · 1 min read

अन्तर्मन

अन्तर्मन

अन्तर्मन का सत्य कथन
यदि सुनता मानव- मन
न होता भ्रष्टाचार
न ही कोई दुराचार
करुणामय होता संसार
समता होती नर हो या नार।
अधिकार होते संरक्षित
किसी से न कोई कंपित
प्रेममय होता जीवन
सहिष्णु होता जन-जन
स्वर्ग-सा सुन्दर
लगता ये चमन
धरती हो या फिर गगन
अन्तर्मन तो है दर्पण
जिसमें दिखता स्व-प्रतिबिम्ब
‘भग ‘वान है इसके बिम्ब
जब होता दुविधा का भान
यही देता विवेक – ज्ञान ।
डॉ० उपासना पाण्डेय

Language: Hindi
1 Like · 26 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सांस
सांस
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
किसान
किसान
Dinesh Kumar Gangwar
बहुत झुका हूँ मैं
बहुत झुका हूँ मैं
VINOD CHAUHAN
2610.पूर्णिका
2610.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
**** बातें दिल की ****
**** बातें दिल की ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
ମଣିଷ ଠାରୁ ଅଧିକ
Otteri Selvakumar
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
चौकड़िया छंद / ईसुरी छंद , विधान उदाहरण सहित , व छंद से सृजित विधाएं
Subhash Singhai
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
Anand Kumar
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
*प्रणय प्रभात*
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
माँ वीणा वरदायिनी, बनकर चंचल भोर ।
जगदीश शर्मा सहज
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
स्मृति : पंडित प्रकाश चंद्र जी
Ravi Prakash
जीत कहां ऐसे मिलती है।
जीत कहां ऐसे मिलती है।
नेताम आर सी
पापा आपकी बहुत याद आती है !
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
Dr arun कुमार शास्त्री
Dr arun कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ज्ञान-दीपक
ज्ञान-दीपक
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Navratri
Navratri
Sidhartha Mishra
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
**तुझे ख़ुशी..मुझे गम **
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
त्राहि त्राहि
त्राहि त्राहि
Dr.Pratibha Prakash
मुझ में
मुझ में
हिमांशु Kulshrestha
क्रोध
क्रोध
लक्ष्मी सिंह
जय हो भारत देश हमारे
जय हो भारत देश हमारे
Mukta Rashmi
🌹 *गुरु चरणों की धूल*🌹
🌹 *गुरु चरणों की धूल*🌹
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नारी : एक अतुल्य रचना....!
नारी : एक अतुल्य रचना....!
VEDANTA PATEL
वो साँसों की गर्मियाँ,
वो साँसों की गर्मियाँ,
sushil sarna
अपने-अपने चक्कर में,
अपने-अपने चक्कर में,
Dr. Man Mohan Krishna
समुन्दर को हुआ गुरुर,
समुन्दर को हुआ गुरुर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
अहं
अहं
Shyam Sundar Subramanian
"शीशा और रिश्ता बड़े ही नाजुक होते हैं
शेखर सिंह
ज़िंदगी मौत,पर
ज़िंदगी मौत,पर
Dr fauzia Naseem shad
Loading...