Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Nov 2023 · 1 min read

“अन्तरात्मा की पथिक “मैं”

“अन्तरात्मा की पथिक “मैं”
“””
एक ओर संसार के लोगों द्वारा दिखाई गई राह,
वहीं दूसरी ओर अन्तरात्मा द्वारा दिखाए पथ,
और अन्तरात्मा के दिखाए पथ की पथिक हूँ मैं।
✍शोभा कुमारी❤️

210 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
22-दुनिया
22-दुनिया
Ajay Kumar Vimal
🙅अमोघ-मंत्र🙅
🙅अमोघ-मंत्र🙅
*प्रणय प्रभात*
सफल हस्ती
सफल हस्ती
Praveen Sain
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023  मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
आज मंगलवार, 05 दिसम्बर 2023 मार्गशीर्ष कृष्णपक्ष की अष्टमी
Shashi kala vyas
आदि शक्ति माँ
आदि शक्ति माँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"तुम्हें राहें मुहब्बत की अदाओं से लुभाती हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
विजय या मन की हार
विजय या मन की हार
Satish Srijan
कविता -
कविता - "करवा चौथ का उपहार"
Anand Sharma
धार्मिक नहीं इंसान बनों
धार्मिक नहीं इंसान बनों
Dr fauzia Naseem shad
भोर होने से पहले .....
भोर होने से पहले .....
sushil sarna
यदि आपका स्वास्थ्य
यदि आपका स्वास्थ्य
Paras Nath Jha
अपने सपनों के लिए
अपने सपनों के लिए
हिमांशु Kulshrestha
महसूस किए जाते हैं एहसास जताए नहीं जाते.
महसूस किए जाते हैं एहसास जताए नहीं जाते.
शेखर सिंह
फनकार
फनकार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
दवा और दुआ में इतना फर्क है कि-
संतोष बरमैया जय
वीकेंड
वीकेंड
Mukesh Kumar Sonkar
"अजातशत्रु"
Dr. Kishan tandon kranti
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
फ़ितरत को ज़माने की, ये क्या हो गया है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
स्वयं आएगा
स्वयं आएगा
चक्षिमा भारद्वाज"खुशी"
वासना और करुणा
वासना और करुणा
मनोज कर्ण
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
मैं दोस्तों से हाथ मिलाने में रह गया कैसे ।
Neelam Sharma
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
व्यक्तिगत अभिव्यक्ति
Shyam Sundar Subramanian
मन हर्षित है अनुरागमयी,इठलाए मौसम साथ कई।
मन हर्षित है अनुरागमयी,इठलाए मौसम साथ कई।
पूर्वार्थ
2590.पूर्णिका
2590.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िन्दगी
ज़िन्दगी
Santosh Shrivastava
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
बुंदेली दोहे- रमतूला
बुंदेली दोहे- रमतूला
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
गिद्ध करते हैं सिद्ध
गिद्ध करते हैं सिद्ध
Anil Kumar Mishra
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
बोलो जय जय गणतंत्र दिवस
gurudeenverma198
Loading...