Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Apr 2022 · 2 min read

*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत शत नमन*

अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत शत नमन
◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆◆
श्री लाल सिंह जी नहीं रहे । 29 अप्रैल 2021 को आप का स्वर्गवास हो गया । सुंदर लाल इंटर कॉलेज के आप केवल एक अध्यापक ही नहीं थे अपितु विद्यालय की आरंभ से यात्रा-प्रवाह के साक्षी और सहयात्री भी थे।
जब से विद्यालय 1956 में शुरू हुआ संभवत पहले सत्र से ही आप अध्यापक के तौर पर युवावस्था के प्रभात में विद्यालय को अध्यापन की अपनी सेवाएं प्रदान करने लगे थे । आप में सब प्रकार से सैनिक-अनुशासन वाली बात थी। आप की चाल-ढाल ,बातचीत और जिस प्रकार की आप की मुद्रा रहती थी ,वह सैनिक का ही प्रतिबिंब उपस्थित करती थी । विद्यालय को अनुशासित बनाने में यूं तो सभी अध्यापकों का योगदान रहता है किंतु फिर भी कुछ नाम ऐसे होते हैं जिनके कंधों पर अनुशासन का काम सौंपा नहीं जाता अपितु वह अपनी नैसर्गिक प्रकृति के अनुरूप अनुशासन के भाव को अपने हाथ में ले लिया करते हैं। लाल सिंह जी का भी ऐसा ही स्वभाव था।
वैसे तो अनुशासन की आवश्यकता किसी भी संस्था को आजीवन बनी रहती है लेकिन शुरुआत के वर्षों में तो इसकी जरूरत कुछ ज्यादा ही होती है । वातावरण की जैसी नींव शुरुआत के दशक में पड़ जाती है ,आगे चलकर उसी पर भवन का निर्माण होता है। शास्त्री जी और लाल सिंह जी यह दो ऐसे नाम थे जिन्होंने सुंदर लाल इंटर कॉलेज को अपनी साधुता , सच्चरित्रता और संयमित जीवन – चर्या के द्वारा जिन ऊँचाइयों पर पहुंचाया ,वह संभवत इनके अभाव में पूरी नहीं हो पाती ।
लाल सिंह जी को हमेशा मर्यादाओं के भीतर विचरण करने का स्वभाव था । कभी किसी से ओछा मजाक करते हुए उन्हें किसी ने नहीं देखा । विद्यालय में विद्यार्थी केवल किताबों में लिखे हुए उपदेशों से प्रभावित नहीं होते अपितु अध्यापक के चरित्र की छाप ही उन पर मुख्यतः पड़ती है और फिर सारा जीवन वह उसी का स्मरण लिए हुए रहते हैं । वैसे तो मैं बचपन से ही लाल सिंह जी से को देखता रहा हूं लेकिन कक्षा 6 से 12 तक सुंदर लाल इंटर कॉलेज में पढ़ते हुए मैंने श्री लाल सिंह जी को विशेष रुप से निकट से देखा। सादगी से भरे उनके खुरदुरे व्यक्तित्व के साथ खादी का बंद गले का कोट खूब फबता था । वह ईमानदार व्यक्ति थे । नैतिक मूल्यों से ओतप्रोत । अपने लंबे कार्यकाल में एक भी दिन ऐसा नहीं कहा जा सकता ,जब कोई उंगली उन पर उठी हो । हर दायित्व को नैतिकता के बोध के साथ ही उन्होंने निर्वहन किया । 1962 – 63 के विद्यालय के एनसीसी ग्रुप के एक फोटो में उनकी स्वाभिमानी छवि देखते ही बनती है। त्याग और तपस्यामय जीवन से ही ऐसी स्वाभिमानी वृत्ति अर्जित की जाती है।
मृत्यु के समय उन्हें विद्यालय से रिटायर हुए लगभग तीन दशक पूरे हो चुके थे ,लेकिन उनके सद्गुणों की छाप कुछ ऐसी थी जो मानस से नहीं हटती । आप की पावन स्मृति को शत-शत प्रणाम ।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर ( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

764 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
मां चंद्रघंटा
मां चंद्रघंटा
Mukesh Kumar Sonkar
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
देशभक्त मातृभक्त पितृभक्त गुरुभक्त चरित्रवान विद्वान बुद्धिम
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
वक्त आने पर सबको दूंगा जवाब जरूर क्योंकि हर एक के ताने मैंने
Ranjeet kumar patre
अगर मैं गलत हूं तो सही कौन है,अगर तू सही है तो गलत कौन है
अगर मैं गलत हूं तो सही कौन है,अगर तू सही है तो गलत कौन है
पूर्वार्थ
राजनीति
राजनीति
Bodhisatva kastooriya
जन्म गाथा
जन्म गाथा
विजय कुमार अग्रवाल
मेरे बस्ती के दीवारों पर
मेरे बस्ती के दीवारों पर
'अशांत' शेखर
सुकर्मों से मिलती है
सुकर्मों से मिलती है
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हृदय कुंज  में अवतरित, हुई पिया की याद।
हृदय कुंज में अवतरित, हुई पिया की याद।
sushil sarna
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
साथ
साथ
Dr fauzia Naseem shad
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
**हो गया हूँ दर बदर चाल बदली देख कर**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
महादेवी वर्मा जी की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि
Harminder Kaur
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
3181.*पूर्णिका*
3181.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
VINOD CHAUHAN
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
किसी भी काम में आपको मुश्किल तब लगती है जब आप किसी समस्या का
Rj Anand Prajapati
"शब्दों का सफ़र"
Dr. Kishan tandon kranti
लक्ष्य
लक्ष्य
Mukta Rashmi
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
(4) ऐ मयूरी ! नाच दे अब !
Kishore Nigam
गुरु कृपा
गुरु कृपा
Satish Srijan
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
यह क्या अजीब ही घोटाला है,
Sukoon
🙏गजानन चले आओ🙏
🙏गजानन चले आओ🙏
SPK Sachin Lodhi
■ समझने वाली बात।
■ समझने वाली बात।
*प्रणय प्रभात*
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
“छोटा उस्ताद ” ( सैनिक संस्मरण )
DrLakshman Jha Parimal
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
*बड़े प्रश्न लें हाथ, सोच मत रखिए छोटी (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जय जय हिन्दी
जय जय हिन्दी
gurudeenverma198
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो..
कवि दीपक बवेजा
सच
सच
Sanjeev Kumar mishra
दोस्ती एक पवित्र बंधन
दोस्ती एक पवित्र बंधन
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...