Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

अनुभव एक ताबीज है

अनुभव एक ताबीज है
रखियो इसे सम्भाल,
बुरे वक़्त के टोटके,
लेगा सभी संभाल ।

@नील पदम्

4 Likes · 178 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
View all
You may also like:
बाबा नीब करौरी
बाबा नीब करौरी
Pravesh Shinde
*बाल गीत (मेरा सहपाठी )*
*बाल गीत (मेरा सहपाठी )*
Rituraj shivem verma
मोहब्बत
मोहब्बत
Dinesh Kumar Gangwar
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*पहले वाले  मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
*पहले वाले मन में हैँ ख़्यालात नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन  में  नव  नाद ।
प्रीतघोष है प्रीत का, धड़कन में नव नाद ।
sushil sarna
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
एक सशक्त लघुकथाकार : लोककवि रामचरन गुप्त
कवि रमेशराज
प्रेम
प्रेम
Shyam Sundar Subramanian
बिंदी
बिंदी
Satish Srijan
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
अपनी ही हथेलियों से रोकी हैं चीख़ें मैंने
पूर्वार्थ
6. शहर पुराना
6. शहर पुराना
Rajeev Dutta
//...महापुरुष...//
//...महापुरुष...//
Chinta netam " मन "
शिक्षा बिना है, जीवन में अंधियारा
शिक्षा बिना है, जीवन में अंधियारा
gurudeenverma198
जीवन के रंग
जीवन के रंग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
किताबों से ज्ञान मिलता है
किताबों से ज्ञान मिलता है
Bhupendra Rawat
3222.*पूर्णिका*
3222.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अहा! जीवन
अहा! जीवन
Punam Pande
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
बदलते दौर में......
बदलते दौर में......
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
🏞️प्रकृति 🏞️
🏞️प्रकृति 🏞️
Vandna thakur
"खुशी मत मना"
Dr. Kishan tandon kranti
मन का मैल नहीं धुले
मन का मैल नहीं धुले
Paras Nath Jha
प्रकृति को जो समझे अपना
प्रकृति को जो समझे अपना
Buddha Prakash
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
*आए सदियों बाद हैं, रामलला निज धाम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
🌹जिन्दगी के पहलू 🌹
Dr Shweta sood
👌ग़ज़ल :--
👌ग़ज़ल :--
*Author प्रणय प्रभात*
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
यहाँ किसे , किसका ,कितना भला चाहिए ?
_सुलेखा.
भ्रात प्रेम का रूप है,
भ्रात प्रेम का रूप है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
Loading...