Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 May 2024 · 1 min read

अनुनय (इल्तिजा) हिन्दी ग़ज़ल

दूर इतना भी अब न जाओ तुम,
सुनो मेरी भी, कुछ सुनाओ तुम।

सबसे मिलते हो मुस्कुरा कर ही,
मुझपे भी, कुछ तरस तो खाओ तुम।

अपनी ज़ुल्फ़ेँ न यूँ खोलो छत पर,
दिल घटाओं का ना जलाओ तुम।

वो भी क्या ख़ूब इक मन्ज़र होगा,
बारिशों मेँ कभी नहाओ तुम।

गर क़रीने का शौक़ है इतना,
घर मिरा भी कभी सजाओ तुम।

चाँद भी तो सुना, पशेमाँ है,
रुख़ से चिलमन ज़रा हटाओ तुम।

बुलबुलों को भी इन्तज़ारी है,
गीत मेरा भी कभी गाओ तुम।

तितलियों को भी रश्क़ है क्यूँकर,
नृत्य करके कभी दिखाओ तुम।

ख़लफ़िशारोँ को ख़त्म है होना,
रार इतनी भी ना बढ़ाओ तुम।

रूबरू मिल अगर नहीं सकते,
आ के स्वप्नों मेँ ना सताओ तुम।

दर्द देते हो, दवा भी दे दो,
रस्मे-उल्फ़त भी तो निभाओ तुम।

दरमियाँ कुछ न अब रहे “आशा”,
आज इतने क़रीब आओ तुम..!

अनुनय # “इल्तिजा” , request
क़रीने # सलीका, व्यवस्थित रहन सहन आदि, orderly arrangement, to keep things tidy etc.
पशेमाँ # लज्जित, ashamed
चिलमन # पर्दा, curtain
रश्क़ # जलन, jealous
ख़लफ़िशार # मतभेद, differences
रस्मे-उल्फ़त # प्रेम के (महान) तौर तरीके, the (great) traditions of love
दरमियाँ # बीच मेँ, in between

##————##———–##————

6 Likes · 6 Comments · 51 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
🌺🌺इन फाँसलों को अन्जाम दो🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*मकान (बाल कविता)*
*मकान (बाल कविता)*
Ravi Prakash
वृद्धाश्रम इस समस्या का
वृद्धाश्रम इस समस्या का
Dr fauzia Naseem shad
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
बैलगाड़ी के नीचे चलने वालों!
*प्रणय प्रभात*
* भैया दूज *
* भैया दूज *
surenderpal vaidya
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
पयोनिधि नेह में घोली, मधुर सुर साज है हिंदी।
Neelam Sharma
सोने की चिड़िया
सोने की चिड़िया
Bodhisatva kastooriya
जीवन तेरी नयी धुन
जीवन तेरी नयी धुन
कार्तिक नितिन शर्मा
गं गणपत्ये! माँ कमले!
गं गणपत्ये! माँ कमले!
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
देश में क्या हो रहा है?
देश में क्या हो रहा है?
Acharya Rama Nand Mandal
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
डॉ अरुण कुमार शास्त्री ( पूर्व निदेशक – आयुष ) दिल्ली
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"फुटपाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
💜सपना हावय मोरो💜
💜सपना हावय मोरो💜
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
आब त रावणक राज्य अछि  सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
आब त रावणक राज्य अछि सबतरि ! गाम मे ,समाज मे ,देशक कोन - को
DrLakshman Jha Parimal
वो जो मुझसे यूं रूठ गई है,
वो जो मुझसे यूं रूठ गई है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2703.*पूर्णिका*
2703.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
#शीर्षक:- इजाजत नहीं
Pratibha Pandey
कोई तो डगर मिले।
कोई तो डगर मिले।
Taj Mohammad
Legal Quote
Legal Quote
GOVIND UIKEY
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
जल रहे अज्ञान बनकर, कहेें मैं शुभ सीख हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
*🌸बाजार *🌸
*🌸बाजार *🌸
Mahima shukla
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
पर्यावरण दिवस पर विशेष गीत
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
स्त्री रहने दो
स्त्री रहने दो
Arti Bhadauria
दिवाली
दिवाली
Ashok deep
सफलता की ओर
सफलता की ओर
Vandna Thakur
फितरत बदल रही
फितरत बदल रही
Basant Bhagawan Roy
कृषक
कृषक
Shaily
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
हम वह मिले तो हाथ मिलाया
gurudeenverma198
बलात-कार!
बलात-कार!
अमित कुमार
Loading...