Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2022 · 1 min read

” अनमोल धरोहर बेटी “

भारत मां की बेटी का

चरित्र पाक एवं विरला है

दो घरों को जन्नत बनाती

निज स्वभाव निराला है,

बेटी जीतकर मैडल लाती

आसमान में जहाज उड़ाती

शिक्षक बन यह बच्चे पढ़ाती

निज अंदाज निराला है,

बेटों से बढ़कर नाम कमाती

कंधे से यह कंधा मिलाती

वैज्ञानिक, इंजीनियर बन जाती

निज मिजाज शर्मिला है,

फौजी बन यह सरहद पर जाती

भारत मां की शान बढ़ाती

गोली से अरि मार गिराती

निज जज्बा गर्विला है,

आंचल में अपने बच्चे खिलाती

ममता की छांव में सहलाती

कुनबे में प्रेम की गंगा बहाती

निज कंठ सुरीला है।

Language: Hindi
1 Like · 152 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
आब-ओ-हवा
आब-ओ-हवा
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
बेचारा प्रताड़ित पुरुष
Manju Singh
।। गिरकर उठे ।।
।। गिरकर उठे ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
कुछ चंद लोंगो ने कहा है कि
सुनील कुमार
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
सारे दुख दर्द होजाते है खाली,
Kanchan Alok Malu
सुप्रभात
सुप्रभात
Seema Verma
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
बच्चे पैदा कीजिए, घर-घर दस या बीस ( हास्य कुंडलिया)
Ravi Prakash
कवि मोशाय।
कवि मोशाय।
Neelam Sharma
चुनावी युद्ध
चुनावी युद्ध
Anil chobisa
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
ये दुनिया है साहब यहां सब धन,दौलत,पैसा, पावर,पोजीशन देखते है
Ranjeet kumar patre
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
पेट भरता नहीं है बातों से
पेट भरता नहीं है बातों से
Dr fauzia Naseem shad
स्त्री:-
स्त्री:-
Vivek Mishra
टेसू के वो फूल कविताएं बन गये ....
टेसू के वो फूल कविताएं बन गये ....
Kshma Urmila
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
वही है जो इक इश्क़ को दो जिस्म में करता है।
Monika Verma
मां रा सपना
मां रा सपना
Rajdeep Singh Inda
दोहे-
दोहे-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
दुआ कबूल नहीं हुई है दर बदलते हुए
कवि दीपक बवेजा
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
हिंदीग़ज़ल की गटर-गंगा *रमेशराज
कवि रमेशराज
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/54.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
किरदार अगर रौशन है तो
किरदार अगर रौशन है तो
shabina. Naaz
ସେହି କୁକୁର
ସେହି କୁକୁର
Otteri Selvakumar
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
कवियों की कैसे हो होली
कवियों की कैसे हो होली
महेश चन्द्र त्रिपाठी
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
चंद मुक्तक- छंद ताटंक...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ बहुत हुई घिसी-पिटी दुआएं। कुछ नया भी बोलो ताकि प्रभु को भी
■ बहुत हुई घिसी-पिटी दुआएं। कुछ नया भी बोलो ताकि प्रभु को भी
*Author प्रणय प्रभात*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
*मंज़िल पथिक और माध्यम*
Lokesh Singh
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
क्या होगा कोई ऐसा जहां, माया ने रचा ना हो खेल जहां,
Manisha Manjari
निगाहें के खेल में
निगाहें के खेल में
Surinder blackpen
Loading...