Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Feb 2024 · 1 min read

अनजान राहें अनजान पथिक

‌ अनजान राहें अनजान पथिक मिलन कैसा ।
विहड़ विरान विक्राल व्याघ्र वाल तिमिर जैसा।

क्षण भर का मिलन ,उम्र भर का जलन, रहेगे फफोले ,
दिल का तार तार बने खुद पर भार, रहेंगे हम अकेले।
दुनियां में मिलन अय्यासी- अय्यारी के लगे हैं यहां मेले,
संग- संग न चले हम, दो डग न चले हम न चौसर खेले।
न गुम हुए गोट फिर भी लगे चोट, खेल ही यह ऐसा।।
अनजान राहें………..

पिछले युग के हम थे साथी, खुद मैं दीया शायद तुम बाती,
संग में शायद जले -जले,क्योंकि चिराग रौनके नहीं जाती।
पीढ़ियां बदल गई भले ही, लेकिन अग्न लगै क्यों बिन पाती,
तेरीआहट दे ठण्डक मुझको,वरना मारूत चक्कर न खाती।
गई वह शदी आई नई पीढी, हो गया शायद ज्यादा ही पैसा।।
अनजान राहें ………..

नदी के दो तीर मिलने की पीर ,सब यह व्यर्थ है भाई ,
चंदा,धरा देखे त्यागी फैला, वसुंधरा पर जूं पड़ै परछाई ।
शुक्ल पक्ष शायद दक्ष, विश्वामित्र पर मेनका ज्यों आई,
विश्वास घात विश्वामित्र साथ ,जग से छुपे ना ही छुपाई।
शायद भ्रम हुए थे, खोटे कर्म हुए थे, सब जैसे को तैसा।
अनजान राहें……….

शायद मिले हमको मिताई, लेकिन मिले कवि कविताई,
न संतुष्टि,समस्त सृष्टि, केवल खाक ही खाक नजर आई।
सत्य आज दिखें असत्य सपना,सुबह टुटी मिले चारपाई ,
तुम मे लीन लेकिन तुम विहिन, जीवन मजार लगे खुदाई।
रुन क्रंदन मौन विलाप कर, छोड़ जाएंगे हम तेरा ये देशा।।
अनजान राहें……

सतपाल चौहान ।

Language: Hindi
3 Likes · 90 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from SATPAL CHAUHAN
View all
You may also like:
दोहे- शक्ति
दोहे- शक्ति
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शायरी की तलब
शायरी की तलब
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
मुलाक़ातें ज़रूरी हैं
Shivkumar Bilagrami
हिन्द की भाषा
हिन्द की भाषा
Sandeep Pande
"तेरी खामोशियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
बासी रोटी...... एक सच
बासी रोटी...... एक सच
Neeraj Agarwal
भूल जा इस ज़माने को
भूल जा इस ज़माने को
Surinder blackpen
दम उलझता है
दम उलझता है
Dr fauzia Naseem shad
“बप्पा रावल” का इतिहास
“बप्पा रावल” का इतिहास
Ajay Shekhavat
गाछ सभक लेल
गाछ सभक लेल
DrLakshman Jha Parimal
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
जीवन में शॉर्ट कट 2 मिनट मैगी के जैसे होते हैं जो सिर्फ दो म
Neelam Sharma
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
डॉक्टर रागिनी
रणजीत कुमार शुक्ल
रणजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
वर्णमाला
वर्णमाला
Abhijeet kumar mandal (saifganj)
"महंगा तजुर्बा सस्ता ना मिलै"
MSW Sunil SainiCENA
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
स्त्री एक रूप अनेक हैँ
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2911.*पूर्णिका*
2911.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
उपकार माईया का
उपकार माईया का
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आओ मिलकर नया साल मनाये*
आओ मिलकर नया साल मनाये*
Naushaba Suriya
ग्रामीण ओलंपिक खेल
ग्रामीण ओलंपिक खेल
Shankar N aanjna
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
किसी की प्रशंसा एक हद में ही करो ताकि प्रशंसा एवं 'खुजाने' म
Dr MusafiR BaithA
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दोहा-
दोहा-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अभिनेता बनना है
अभिनेता बनना है
Jitendra kumar
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
मनुष्य की पहचान अच्छी मिठी-मिठी बातों से नहीं , अच्छे कर्म स
Raju Gajbhiye
💐प्रेम कौतुक-396💐
💐प्रेम कौतुक-396💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
ईमेल आपके मस्तिष्क की लिंक है और उस मोबाइल की हिस्ट्री आपके
Rj Anand Prajapati
दोहे - नारी
दोहे - नारी
sushil sarna
Loading...