Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jan 2024 · 1 min read

अनजान दीवार

कोई दीवार अनजान
कैसे हो सकती है !
प्रकृति कोई दीवार
रेखा खिंचती। नहीं !
.
जो है वे सब काल्पनिक,
इस धरा पर पर्वत मालायें है,
जीवन है जहां तहां मिलते हैं
सबूत
बनती है श्रंखला
श्रंगार है गहरा
पानी बहता है
बहाब तय करता है
नाला है, नदी है
तय करता पूरब है
या है पश्चिम उत्तर दक्षिण
.
दो मुल्क बंट जाते हैं !
पड़ जाते हैं, अलग थलग,
इसे भले तुम कहो,
अनजान दीवार,
या
कहे प्रभु का दीदार,

नज़रें तुम्हारी
फैल पायेंगी जितनी
अनजान दीवारें
दूर रहेंगी उतनी .।।
.
जय बाबा की

Language: Hindi
314 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Mahender Singh
View all
You may also like:
मेरे तात !
मेरे तात !
Akash Yadav
पहले तेरे हाथों पर
पहले तेरे हाथों पर
The_dk_poetry
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
दर्द के ऐसे सिलसिले निकले
Dr fauzia Naseem shad
भोले शंकर ।
भोले शंकर ।
Anil Mishra Prahari
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
मै अपवाद कवि अभी जीवित हूं
प्रेमदास वसु सुरेखा
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
इस महफ़िल में तमाम चेहरे हैं,
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
सब गोलमाल है
सब गोलमाल है
Dr Mukesh 'Aseemit'
चोट
चोट
आकांक्षा राय
खास हम नहीं मिलते तो
खास हम नहीं मिलते तो
gurudeenverma198
वृक्ष किसी को
वृक्ष किसी को
DrLakshman Jha Parimal
"बेटियाँ"
Dr. Kishan tandon kranti
"मनभावन मधुमास"
Ekta chitrangini
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुरमाई अंखियाँ नशा बढ़ाए
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
जो सरकार धर्म और जाति को लेकर बनी हो मंदिर और मस्जिद की बात
Jogendar singh
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
जहां हिमालय पर्वत है
जहां हिमालय पर्वत है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
आइये - ज़रा कल की बात करें
आइये - ज़रा कल की बात करें
Atul "Krishn"
गले लगाना पड़ता है
गले लगाना पड़ता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
कुछ लोग अच्छे होते है,
कुछ लोग अच्छे होते है,
Umender kumar
सच तो हम इंसान हैं
सच तो हम इंसान हैं
Neeraj Agarwal
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
मेरी प्यारी अभिसारी हिंदी......!
Neelam Sharma
लालच
लालच
Vandna thakur
2697.*पूर्णिका*
2697.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नीम
नीम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
व्यक्ति को ह्रदय का अच्छा होना जरूरी है
शेखर सिंह
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ग़म बांटने गए थे उनसे दिल के,
ओसमणी साहू 'ओश'
मेरी ज़िंदगी की हर खुली क़िताब पर वो रंग भर देता है,
मेरी ज़िंदगी की हर खुली क़िताब पर वो रंग भर देता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Loading...