Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Feb 2023 · 1 min read

अधूरे ख़्वाब की जैसे

जो लिखता है मेरा या’रब
वही तकदीर होती है ।
अधूरे ख़्वाब की जैसे ,
कहां ता’बीर होती है ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
8 Likes · 158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
Pollution & Mental Health
Pollution & Mental Health
Tushar Jagawat
बावन यही हैं वर्ण हमारे
बावन यही हैं वर्ण हमारे
Jatashankar Prajapati
जय श्री राम
जय श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
नहीं जाती तेरी याद
नहीं जाती तेरी याद
gurudeenverma198
जीवन में प्राकृतिक ही  जिंदगी हैं।
जीवन में प्राकृतिक ही जिंदगी हैं।
Neeraj Agarwal
पिरामिड -यथार्थ के रंग
पिरामिड -यथार्थ के रंग
sushil sarna
परत दर परत
परत दर परत
Juhi Grover
🙅बड़ा सच🙅
🙅बड़ा सच🙅
*प्रणय प्रभात*
*मायूस चेहरा*
*मायूस चेहरा*
Harminder Kaur
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
54….बहर-ए-ज़मज़मा मुतदारिक मुसम्मन मुज़ाफ़
sushil yadav
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
अगर कभी अपनी गरीबी का एहसास हो,अपनी डिग्रियाँ देख लेना।
Shweta Soni
*A date with my crush*
*A date with my crush*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
सुप्रभात
सुप्रभात
डॉक्टर रागिनी
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
आजकल लोग का घमंड भी गिरगिट के जैसा होता जा रहा है
शेखर सिंह
दिल धड़कने का
दिल धड़कने का
Dr fauzia Naseem shad
2799. *पूर्णिका*
2799. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
*बेचारे पति जानते, महिमा अपरंपार (हास्य कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
आखिर मैंने भी कवि बनने की ठानी MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
*गुड़िया प्यारी राज दुलारी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बादलों पर घर बनाया है किसी ने...
बादलों पर घर बनाया है किसी ने...
डॉ.सीमा अग्रवाल
"तुम मेरी ही मधुबाला....."
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"देश के इतिहास में"
Dr. Kishan tandon kranti
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
रिश्ता और परिवार की तोहमत की वजह सिर्फ ज्ञान और अनुभव का अहम
पूर्वार्थ
* याद है *
* याद है *
surenderpal vaidya
*चाटुकार*
*चाटुकार*
Dushyant Kumar
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
*......सबको लड़ना पड़ता है.......*
Naushaba Suriya
भूख
भूख
नाथ सोनांचली
जैसे हम,
जैसे हम,
नेताम आर सी
नींव की ईंट
नींव की ईंट
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सत्य की खोज
सत्य की खोज
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...