Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Feb 2024 · 1 min read

अधूरी ख्वाहिशें

अधूरी ख्वाहिशों का बाजार ये
यहाँ ख्वाहिशों के सौदागर,
मिट्टी को धवल कागजों में
लपेट कर बेचते हुए बाजीगर।

किसकी कब पूरी हुई यहाँ
हर वह ख्वाहिशें शिद्दत से,
देखा नहीं ऐसा कोई बाजीगर
हमने इस जमीन पर मुद्दत से।

मुझे लगता है जिस दिन पूरी
हो जायेगी हर ख्वाहिशें तेरी,
चिरंतन चक्र दुनिया का फिर
शेष क्या चाह रह जायेगी मेरी।

न तुम्हे किसी की जरूरत और
किसी को तेरी नही रहेगी,
समाप्त जीने का मकसद होगा
सृष्टि कर्म रुक कर रहेगी।

यह एक पूरी होती नही कि
दूसरी सर उठा लेती है,
सच कहें तो ये हमे जीने का
एक मकसद सदा से देती है।

निर्मेष ये ख्वाहिशें ही अधूरी
जिसकी चाह में हम जीते है,
न जाने कितने जहर को हम
अमृत समझ कर पीते है।

पर ये न कभी पूरी हो सकी है
और न कभी पूरी हो कर रहेगी,
अधूरी ख्वाहिशों के बल पर ही
यह दुनिया सनातन चलेगी।

निर्मेष

1 Like · 62 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
View all
You may also like:
पंचचामर मुक्तक
पंचचामर मुक्तक
Neelam Sharma
....एक झलक....
....एक झलक....
Naushaba Suriya
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - कह न पाया आदतन तो और कुछ - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
गुजिश्ता साल तेरा हाथ, मेरे हाथ में था
गुजिश्ता साल तेरा हाथ, मेरे हाथ में था
Shweta Soni
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Jitendra Kumar Noor
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
हो गई जब खत्म अपनी जिंदगी की दास्तां..
Vishal babu (vishu)
" बेदर्द ज़माना "
Chunnu Lal Gupta
भूल भूल हुए बैचैन
भूल भूल हुए बैचैन
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
*कागभुशुंडी जी थे ज्ञानी (चौपाइयॉं)*
Ravi Prakash
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
मैं हूँ के मैं अब खुद अपने ही दस्तरस में नहीं हूँ
'अशांत' शेखर
वसंत
वसंत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
#शीर्षक- 55 वर्ष, बचपन का पंखा
Anil chobisa
■ प्रणय के मुक्तक
■ प्रणय के मुक्तक
*प्रणय प्रभात*
ख्वाहिशों के बैंलेस को
ख्वाहिशों के बैंलेस को
Sunil Maheshwari
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
सबने पूछा, खुश रहने के लिए क्या है आपकी राय?
Kanchan Alok Malu
सुहासिनी की शादी
सुहासिनी की शादी
विजय कुमार अग्रवाल
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
जिंदा हूँ अभी मैं और याद है सब कुछ मुझको
gurudeenverma198
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
"Stop being a passenger for someone."
पूर्वार्थ
अगर पात्रता सिद्ध कर स्त्री पुरुष को मां बाप बनना हो तो कितन
अगर पात्रता सिद्ध कर स्त्री पुरुष को मां बाप बनना हो तो कितन
Pankaj Kushwaha
फ़र्क़..
फ़र्क़..
Rekha Drolia
2834. *पूर्णिका*
2834. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
मैं हूँ कि मैं मैं नहीं हूँ
VINOD CHAUHAN
नील पदम् के दोहे
नील पदम् के दोहे
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
जानते हो मेरे जीवन की किताब का जैसे प्रथम प्रहर चल रहा हो और
Swara Kumari arya
*दर्द का दरिया  प्यार है*
*दर्द का दरिया प्यार है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
नवरात्रि के चौथे दिन देवी दुर्गा के कूष्मांडा स्वरूप की पूजा
Shashi kala vyas
🤔कौन हो तुम.....🤔
🤔कौन हो तुम.....🤔
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
संतोष भले ही धन हो, एक मूल्य हो, मगर यह ’हारे को हरि नाम’ की
Dr MusafiR BaithA
Loading...