Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 May 2024 · 1 min read

अधूरा प्रयास

अधूरा प्रयास
चलता रहेगा कारवां रोको नहीं कदम…
उम्मीद होगी ज्यादा ना ख्वाहिशें होगी कम… कितनी मुसीबतें, तुम्हारी राह में आए…
फिर भी कभी ना तुम्हारी चाह में आए…
लड़कर ही बनेगी जिंदगी, सत्यम ,शिवम, सुंदरम… उम्मीद होगी…
तन्हा नहीं हो तुम सच साथ में रहेगा…
मंजिल तुम्हें मिलेगी, सब हाथ में रहेगा
झुकना नहीं तुमको , हो कितनी रंजो गम …
उम्मीद होगी …
दुश्वारियां हो जितनी भी जिंदादिली रहे
जुल्मों सितम हो जब भी ना हम कभी सहे…
करना ना कभी आंखों को आंसुओं में नम…
उम्मीद होगी ज्यादा ना ख्वाहिशें होंगी कम…
स्वरचित कविता
सुरेखा राठी

1 Like · 45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भारत के जोगी मोदी ने --
भारत के जोगी मोदी ने --
Seema Garg
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
प्रतिभाशाली या गुणवान व्यक्ति से सम्पर्क
Paras Nath Jha
उनकी तस्वीर
उनकी तस्वीर
Madhuyanka Raj
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
आसमां में चांद प्यारा देखिए।
सत्य कुमार प्रेमी
झुक कर दोगे मान तो,
झुक कर दोगे मान तो,
sushil sarna
धार तुम देते रहो
धार तुम देते रहो
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
यूं ही नहीं हमने नज़र आपसे फेर ली हैं,
ओसमणी साहू 'ओश'
बसंत
बसंत
manjula chauhan
कहने को तो बहुत लोग होते है
कहने को तो बहुत लोग होते है
रुचि शर्मा
खुशियों को समेटता इंसान
खुशियों को समेटता इंसान
Harminder Kaur
कविता तुम से
कविता तुम से
Awadhesh Singh
मैं  ज़्यादा  बोलती  हूँ  तुम भड़क जाते हो !
मैं ज़्यादा बोलती हूँ तुम भड़क जाते हो !
Neelofar Khan
शतरंज
शतरंज
भवेश
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
पल
पल
Sangeeta Beniwal
ऐ दिल सम्हल जा जरा
ऐ दिल सम्हल जा जरा
Anjana Savi
दोहे- चरित्र
दोहे- चरित्र
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
फितरत को पहचान कर भी
फितरत को पहचान कर भी
Seema gupta,Alwar
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/10.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कुछ चूहे थे मस्त बडे
कुछ चूहे थे मस्त बडे
Vindhya Prakash Mishra
#शख़्सियत...
#शख़्सियत...
*प्रणय प्रभात*
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
संकल्प
संकल्प
Davina Amar Thakral
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
भीतर से तो रोज़ मर ही रहे हैं
भीतर से तो रोज़ मर ही रहे हैं
Sonam Puneet Dubey
परोपकार
परोपकार
Raju Gajbhiye
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
जिंदगी झंड है,
जिंदगी झंड है,
कार्तिक नितिन शर्मा
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
हालात ए शोख निगाहों से जब बदलती है ।
Phool gufran
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
Loading...