Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Aug 2023 · 1 min read

अतीत

अतीत के पलों में भी जिंदगी होती हैं।
बस मुस्कुराती या उदास सी होती हैं।

सच और झूठ फरेब अतीत के पन्ने होते हैं।।
आज कल हम सभी हकीकत बस कहते हैं।

लम्हे तेरी यादों के मेरे आज भी अतीत बनते हैं।
तुम आज मेरी नज़र न बनी फिर भी सोचते हैं।

सच तो अतीत भी हम सभी के जीवन में रहता हैं।
बस कुछ भूल गए कुछ यादगार बन जाते हैं।

हां सच हमारे तुम्हारे चाहत के भी जो अतीत हैं।
आज भी दिलों में जिंदा धड़कन बने धड़कते हैं।

रंगमंच के किरदार में हम सभी के अतीत होते हैं।
बस कुछ सच और रहस्य के साथ साथ जीते हैं।

सच अतीत जिंदगी में जरुरत हमसफ़र की होती है।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
121 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
नए पुराने रूटीन के याचक
नए पुराने रूटीन के याचक
Dr MusafiR BaithA
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
बुद्ध के संग अब जाऊँगा ।
Buddha Prakash
मुक्तक... छंद मनमोहन
मुक्तक... छंद मनमोहन
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ख़ुद पे गुजरी तो मेरे नसीहतगार,
ओसमणी साहू 'ओश'
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
हँसते हैं, पर दिखाते नहीं हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
श्री श्याम भजन 【लैला को भूल जाएंगे】
Khaimsingh Saini
हद
हद
Ajay Mishra
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
फ़ासला गर
फ़ासला गर
Dr fauzia Naseem shad
हमारे जैसी दुनिया
हमारे जैसी दुनिया
Sangeeta Beniwal
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
Swami Ganganiya
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
पाषाण जज्बातों से मेरी, मोहब्बत जता रहे हो तुम।
Manisha Manjari
किस्मत की लकीरें
किस्मत की लकीरें
umesh mehra
रक्षा बंधन
रक्षा बंधन
विजय कुमार अग्रवाल
त्यौहार
त्यौहार
Mukesh Kumar Sonkar
कलम , रंग और कूची
कलम , रंग और कूची
Dr. Kishan tandon kranti
नर नारी
नर नारी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
आज बुढ़ापा आया है
आज बुढ़ापा आया है
Namita Gupta
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
शिवोहं
शिवोहं
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
मैं और मेरी तन्हाई
मैं और मेरी तन्हाई
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
■ शुभ देवोत्थान
■ शुभ देवोत्थान
*Author प्रणय प्रभात*
-- दिव्यांग --
-- दिव्यांग --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
*मिलता जीवन में वही, जैसा भाग्य-प्रधान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
2524.पूर्णिका
2524.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
ज़िक्र-ए-वफ़ा हो या बात हो बेवफ़ाई की ,
sushil sarna
Loading...