Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 May 2024 · 1 min read

अतीत के पन्ने (कविता)

अतीत के पन्ने*

कुछ अतीत के किस्से
जो कभीं ना धुंधले पड़ते है
पलटती हू जब भी जीवन के पन्ने को
कर देते है उदास मेरे जीवन को ये
ज़रा सी आहत से
खड़े हो जाते है, अतीत के पन्ने मेरे सामने
पलटती हू उन पन्नों को बार बार हर बार
आँख बंद करके
दिल की गहराईयों से जुड़ी यादे
बार बार मेरे सामने आकर हो जाती है खड़ी
आखिर क्यों जिंदगी के पन्ने भुलाए नहीं भूलते
क्यों गुजरा हुआ कल आज पर भारी हो जाता है
माना कुछ रिस्तों में हार गई
मगर कहीं रिश्ते बंधे भी तो है
माना मैंने कुछ ज़्यादा तो नहीं पाया
जो पाया वो खोने से कम तो नहीं
फिर भी आखिर क्यों मन
विचलित हो जाता है
और हमेशा अतीत के पन्नों को
पलटता रहता है बार बार हर बार

Language: Hindi
1 Like · 33 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
चेहरे का रंग देख के रिश्ते नही बनाने चाहिए साहब l
Ranjeet kumar patre
How to Build a Healthy Relationship?
How to Build a Healthy Relationship?
Bindesh kumar jha
3324.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3324.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
* नाम रुकने का नहीं *
* नाम रुकने का नहीं *
surenderpal vaidya
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
* मणिपुर की जो घटना सामने एक विचित्र घटना उसके बारे में किसी
Vicky Purohit
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
लालच
लालच
Dr. Kishan tandon kranti
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
किस बात का गुरुर हैं,जनाब
शेखर सिंह
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
*डमरु (बाल कविता)*
*डमरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
" तार हूं मैं "
Dr Meenu Poonia
बढ़ता उम्र घटता आयु
बढ़ता उम्र घटता आयु
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
घर आये हुये मेहमान का अनादर कभी ना करना.......
shabina. Naaz
■ जय हो...
■ जय हो...
*प्रणय प्रभात*
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
बिलकुल सच है, व्यस्तता एक मायाजाल,समय का खेल, मन का ही कंट्र
पूर्वार्थ
शीर्षक– आपके लिए क्या अच्छा है यह आप तय करो
शीर्षक– आपके लिए क्या अच्छा है यह आप तय करो
Sonam Puneet Dubey
हर वर्ष जला रहे हम रावण
हर वर्ष जला रहे हम रावण
Dr Manju Saini
अश्रु की भाषा
अश्रु की भाषा
Shyam Sundar Subramanian
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Wishing you a Diwali filled with love, laughter, and the swe
Lohit Tamta
.तेरी यादें समेट ली हमने
.तेरी यादें समेट ली हमने
Dr fauzia Naseem shad
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
होरी के हुरियारे
होरी के हुरियारे
Bodhisatva kastooriya
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
इंसान का मौलिक अधिकार ही उसके स्वतंत्रता का परिचय है।
Rj Anand Prajapati
कौन गया किसको पता ,
कौन गया किसको पता ,
sushil sarna
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
प्रेम मे डुबी दो रुहएं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जगदाधार सत्य
जगदाधार सत्य
महेश चन्द्र त्रिपाठी
बासी रोटी...... एक सच
बासी रोटी...... एक सच
Neeraj Agarwal
आत्म बोध
आत्म बोध
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Loading...