Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Nov 2022 · 1 min read

अतीत का अफसोस क्या करना।

जीवन मधुशाला में बैठकर मदहोश मत कीजिए !!
जो छूट गया उसके बारे में अफसोस मत कीजिए !!

मार्तंड

Language: Hindi
1 Like · 179 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
🪁पतंग🪁
🪁पतंग🪁
Dr. Vaishali Verma
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
हवाओ में हुं महसूस करो
हवाओ में हुं महसूस करो
Rituraj shivem verma
गज़ल
गज़ल
Mamta Gupta
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था
जब हम गरीब थे तो दिल अमीर था "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
दृढ़
दृढ़
Sanjay ' शून्य'
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
World tobacco prohibition day
World tobacco prohibition day
Tushar Jagawat
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
मर्यादाएँ टूटतीं, भाषा भी अश्लील।
Arvind trivedi
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
मोबाइल फोन
मोबाइल फोन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
फितरत
फितरत
Dr.Priya Soni Khare
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
यारों की महफ़िल सजे ज़माना हो गया,
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
बदलती फितरत
बदलती फितरत
Sûrëkhâ
2892.*पूर्णिका*
2892.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
पापा की तो बस यही परिभाषा हैं
Dr Manju Saini
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
इतनी खुबसूरत नही होती मोहब्बत जितनी शायरो ने बना रखी है,
पूर्वार्थ
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
प्रभु हैं खेवैया
प्रभु हैं खेवैया
Dr. Upasana Pandey
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
**तीखी नजरें आर-पार कर बैठे**
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"पैसा"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन के किसी भी
जीवन के किसी भी
Dr fauzia Naseem shad
सर्दी
सर्दी
Dhriti Mishra
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
दोस्ती एक गुलाब की तरह हुआ करती है
शेखर सिंह
बात पुरानी याद आई
बात पुरानी याद आई
नूरफातिमा खातून नूरी
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
😟 काश ! इन पंक्तियों में आवाज़ होती 😟
Shivkumar barman
संयुक्त परिवार
संयुक्त परिवार
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...