Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2023 · 1 min read

अजीब है भारत के लोग,

अजीब है भारत के लोग,
जिन्हें शौचालय बनवाने की औकात नहीं,
वे लोग भी दहेज में डेढ़ लाख रूपए की
मोटरसाइकिल मांगते हैं।

@जय लगन कुमार हैप्पी
बेतिया, बिहार

276 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
हो गया जो दीदार तेरा, अब क्या चाहे यह दिल मेरा...!!!
AVINASH (Avi...) MEHRA
!! दर्द भरी ख़बरें !!
!! दर्द भरी ख़बरें !!
Chunnu Lal Gupta
प्रकृति सुर और संगीत
प्रकृति सुर और संगीत
Ritu Asooja
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
लिखा भाग्य में रहा है होकर,
पूर्वार्थ
भगवान कहाँ है तू?
भगवान कहाँ है तू?
Bodhisatva kastooriya
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
जो ज़िम्मेदारियों से बंधे होते हैं
Paras Nath Jha
Dr अरुण कुमार शास्त्री
Dr अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कलेक्टर से भेंट
कलेक्टर से भेंट
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
*त्रिजटा (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
यादों के झरोखों से...
यादों के झरोखों से...
मनोज कर्ण
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
हिमांशु Kulshrestha
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
बात तब कि है जब हम छोटे हुआ करते थे, मेरी माँ और दादी ने आस
ruby kumari
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
मेरे पापा आज तुम लोरी सुना दो
Satish Srijan
कागज के फूल
कागज के फूल
डा गजैसिह कर्दम
बात खो गई
बात खो गई
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
चुनाव
चुनाव
Neeraj Agarwal
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
मेरे पास, तेरे हर सवाल का जवाब है
Bhupendra Rawat
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
अर्थ में,अनर्थ में अंतर बहुत है
Shweta Soni
तुम और बिंदी
तुम और बिंदी
Awadhesh Singh
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
हर राह मौहब्बत की आसान नहीं होती ।
Phool gufran
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
कैमरे से चेहरे का छवि (image) बनाने मे,
Lakhan Yadav
जी रहे है तिरे खयालों में
जी रहे है तिरे खयालों में
Rashmi Ranjan
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
#लघुकथा- चुनावी साल, वही बवाल
*Author प्रणय प्रभात*
इतना तो अधिकार हो
इतना तो अधिकार हो
Dr fauzia Naseem shad
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
मैंने बेटी होने का किरदार किया है
Madhuyanka Raj
Ek gali sajaye baithe hai,
Ek gali sajaye baithe hai,
Sakshi Tripathi
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
"दस्तूर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...