Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jun 2021 · 1 min read

अजीब दुनिया

बकरी ने मारा शेर को
बुझ गई उसकी प्यास,
कौआ खाए घास
ये देख घोड़े ने लिया संन्यास,
कुत्ते ने सींग मारा
इंसान क्या करे बेचारा,
देख कर ये दृश्य
हो गया बदहवास,
चीख कर नींद से जागा तो
पाया सब था बकवास।।
********
स्वरचित एवं मौलिक

Language: Hindi
7 Likes · 14 Comments · 1079 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सब्र का बांँध यदि टूट गया
सब्र का बांँध यदि टूट गया
Buddha Prakash
*मनुष्य शरीर*
*मनुष्य शरीर*
Shashi kala vyas
लिखा है किसी ने यह सच्च ही लिखा है
लिखा है किसी ने यह सच्च ही लिखा है
VINOD CHAUHAN
पैसा
पैसा
Sanjay ' शून्य'
ये
ये "परवाह" शब्द वो संजीवनी बूटी है
शेखर सिंह
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
निराकार परब्रह्म
निराकार परब्रह्म
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
सूर्य अराधना और षष्ठी छठ पर्व के समापन पर प्रकृति रानी यह सं
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2519.पूर्णिका
2519.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
आइना देखा तो खुद चकरा गए।
सत्य कुमार प्रेमी
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
हम ख़्वाब की तरह
हम ख़्वाब की तरह
Dr fauzia Naseem shad
माँ मेरा मन
माँ मेरा मन
लक्ष्मी सिंह
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
जब तक बांकी मेरे हृदय की एक भी सांस है।
Rj Anand Prajapati
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
तू ही मेरी लाड़ली
तू ही मेरी लाड़ली
gurudeenverma198
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
आजकल रिश्तेदार भी
आजकल रिश्तेदार भी
*प्रणय प्रभात*
माँ आज भी जिंदा हैं
माँ आज भी जिंदा हैं
Er.Navaneet R Shandily
चमन
चमन
Bodhisatva kastooriya
परम लक्ष्य
परम लक्ष्य
Dr. Upasana Pandey
"Awakening by the Seashore"
Manisha Manjari
*......हसीन लम्हे....* .....
*......हसीन लम्हे....* .....
Naushaba Suriya
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
बड़ी ही शुभ घड़ी आयी, अवध के भाग जागे हैं।
डॉ.सीमा अग्रवाल
घर
घर
Dr MusafiR BaithA
*क्या देखते हो*
*क्या देखते हो*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जेठ का महीना
जेठ का महीना
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
रूठ जा..... ये हक है तेरा
रूठ जा..... ये हक है तेरा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
!! फूलों की व्यथा !!
!! फूलों की व्यथा !!
Chunnu Lal Gupta
Loading...