Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Mar 2023 · 1 min read

अच्छे किरदार की

अच्छे किरदार का इंसान
कभी किसी के किरदार पर
उंगली नहीं उठाता क्योंकि
यही उसके अच्छे किरदार की
पहचान होती है ।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
9 Likes · 508 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
शीर्षक – निर्णय
शीर्षक – निर्णय
Sonam Puneet Dubey
दुःख,दिक्कतें औ दर्द  है अपनी कहानी में,
दुःख,दिक्कतें औ दर्द है अपनी कहानी में,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
किया पोषित जिन्होंने, प्रेम का वरदान देकर,
Ravi Yadav
*करिश्मा एक कुदरत का है, जो बरसात होती है (मुक्तक)*
*करिश्मा एक कुदरत का है, जो बरसात होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
अजर अमर सतनाम
अजर अमर सतनाम
Dr. Kishan tandon kranti
* मैं बिटिया हूँ *
* मैं बिटिया हूँ *
Mukta Rashmi
पहचान
पहचान
Seema gupta,Alwar
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
अवसरवादी, झूठे, मक्कार, मतलबी, बेईमान और चुगलखोर मित्र से अच
विमला महरिया मौज
मुझको मिट्टी
मुझको मिट्टी
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
ज़िन्दगी में हमेशा खुशियों की सौगात रहे।
Phool gufran
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
निरन्तरता ही जीवन है चलते रहिए
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
*साम वेदना*
*साम वेदना*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
अनंत की ओर _ 1 of 25
अनंत की ओर _ 1 of 25
Kshma Urmila
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
शाम हो गई है अब हम क्या करें...
राहुल रायकवार जज़्बाती
कुछ पल अपने लिए
कुछ पल अपने लिए
Mukesh Kumar Sonkar
तो मेरे साथ चलो।
तो मेरे साथ चलो।
Manisha Manjari
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
अंधकार जितना अधिक होगा प्रकाश का प्रभाव भी उसमें उतना गहरा औ
Rj Anand Prajapati
सफल लोगों की अच्छी आदतें
सफल लोगों की अच्छी आदतें
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हमें
हमें
sushil sarna
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
आवारापन एक अमरबेल जैसा जब धीरे धीरे परिवार, समाज और देश रूपी
Sanjay ' शून्य'
पात उगेंगे पुनः नये,
पात उगेंगे पुनः नये,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मन से हरो दर्प औ अभिमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
गम ए हकीकी का कारण न पूछीय,
Deepak Baweja
अभी सत्य की खोज जारी है...
अभी सत्य की खोज जारी है...
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पापियों के हाथ
पापियों के हाथ
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
आ जाये मधुमास प्रिय
आ जाये मधुमास प्रिय
Satish Srijan
#कविता
#कविता
*प्रणय प्रभात*
हम उस पीढ़ी के लोग है
हम उस पीढ़ी के लोग है
Indu Singh
3046.*पूर्णिका*
3046.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
माफ़ कर दो दीवाने को
माफ़ कर दो दीवाने को
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...